ग्वालियर,(नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के अलग-अलग इलाकों में 273 से अधिक बोरवेल खराब पड़े हुए हैं। इसमें दक्षिण, ग्वालियर, ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र और ग्वालियर ग्रामीण क्षेत्र के इलाके शामिल हैं। अकेले ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र में ही 123 बोरिंग खराब पड़ी हुई हैं। हालांकि पिछले दिनों इस विधानसभा क्षेत्र में 133 बोरिंग खराब थीं, जिसको लेकर महापौर डा. शोभा सिकरवार ने नगर निगम आयुक्त किशोर कान्याल को पत्र लिखा था। इसके बाद 10 बोरिंग ठीक कराई दी गई हैं। दूसरे नंबर पर ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र की स्थिति है, जहां 100 से अधिक बोरिंग खराब हैं। बोरिंग खराब होने के कारण क्षेत्रीय निवासियों को पेयजल के लिए परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

दरअसल, ये वो बोरिंग हैं, जिन पर लोग अपने दैनिक उपयोग के पानी पर आश्रित हैं, लेकिन लंबे समय से बोरिंग खराब होने के कारण लोगों को पानी की किल्लत से जूझना पड़ता है। लोगों ने कई बार इन बोरिंग को ठीक कराने के लिए पीएचई के अमले से शिकायत की है, लेकिन इन बोरिंग को सुधारने की जिम्मेदारी अभी गुजरात की ठेकेदार कंपनी को दी गई है। इस कंपनी ने हाल ही में आकर काम संभालना शुरू किया है। इसमें भी स्थानीय ठेकेदार भी बोरिंग सुधार के काम में अड़ंगे लगा रहे हैं। इसके चलते भी समस्या का निराकरण नहीं हो पा रहा है। हाल ही में दक्षिण और ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत नगर निगम ने विशेष अभियान चलाकर रविवार को छुट्टी के दिन में 20 से अधिक बोरिंग को ठीक कराया था। अब पूर्व विधानसभा क्षेत्र में स्थिति ज्यादा खराब है। विधानसभा क्षेत्रों की बात की जाए, तो पूर्व में 123, ग्वालियर में 100 बोरिंग के अलावा दक्षिण विधानसभा क्षेत्र की 46 और ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में चार बोरिंग खराब पड़ी हुई हैं।

लोगों ने किया था हंगामाः पिछले दिनों बोरिंग खराब होने के बाद सुनवाई न होने पर वार्ड क्रमांक 28 के अंतर्गत भीम नगर और कुम्हरपुरा के लोगों ने मुरार पुल पर चक्काजाम कर दिया था। इसके चलते यातायात बाधित हो गया। सूचना मिलने पर नगर निगम के अपर आयुक्त अतेंद्र सिंह गुर्जर सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और बोरिंग को ठीक कराने का आश्वासन दिया। तब जाकर लोगों ने चक्काजाम खोला और निगम अमले ने पूरा दिन मेहनत कर बोरिंग ठीक कराई।

वर्जन-

बोरिंग सुधारने का जिम्मा गुजरात की कंपनी को दिया गया है। इस कंपनी के प्रतिनिधियों को पिछले दिनों निर्देश दिए गए हैं कि जल्द से जल्द बोरिंग सुधारें। हमने स्टाक में मोटरें रखने के लिए भी कहा है, ताकि खराब मोटर हटाकर उसकी जगह नई मोटर लगा दी जाए। जल्द ही खराब बोरिंग ठीक करा दी जाएंगी।

किशोर कान्याल, आयुक्त नगर निगम

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close