ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोविड-19 से बचाव के लिए जब तक वैक्सीन नहीं बनती, तब तक 'मास्क ही वैक्सीन' है। कोरोना काल में अकेले पुलिस विभाग ने 6 महीने में 60 हजार मास्क बांटे हैं। हर माह औसतन 10 हजार मास्क बांटे गए हैं, जबकि मास्क न पहनने वालों पर चालान कर पुलिस-प्रशासन ने 55.53 लाख रुपये वसूले भी हैं।

लापरवाह लोगों को मास्क की आदत डालने के लिए पुलिस-प्रशासन ने अप्रैल से चालान की कार्रवाई शुरू की थी। शुरुआती कुछ दिन यह सांकेतिक थी, इसलिए पुलिस 100 रुपये की रसीद के साथ 10 मास्क भी दे रही थी। इसका उद्देश्य लोगों को मास्क पहनने के प्रति जागरूक करना और उनमें इसकी आदत डलवाना था।

समय गुजरने के साथ अनलॉक के दौर में कोरोना महामारी का खतरा बढ़ता गया तो वहीं मास्क बांटने की रफ्तार धीमी होती चली गई। अब पुलिस चालान के साथ 1 या 2 मास्क ही दे रही है। कहीं-कहीं तो मास्क देना भी बंद कर दिए हैं, जबकि जिला प्रशासन की टीमों ने तो बाजारों में निगरानी पहले की तुलना में कम कर दी है। पुलिस-प्रशासन अब चुनावी मोड में नजर आ रहा है।

हर माह 10 हजार चालान

कोरोना महामारी को फैलने से रोकने का जिम्मा मुख्य रूप से जिला प्रशासन और पुलिस पर था। पुलिस और जिला प्रशासन की टीमें बाजारों में घूमीं। यहां मास्क न पहनने वालों पर 100 रुपये से लेकर 1100 रुपये तक के रेडक्रॉस के चालान किए गए। पुलिस ने 6 माह में 33942 लोगों, व्यापारियों व वाहन चालकों का चालान कर करीब 44.37 लाख रुपये वसूले।

यह पूरी राशि जिला प्रशासन के रेडक्रॉस में जमा कराई जाती है, जिसका उपयोग कोविड-19 की व्यवस्थाओं में किया जाता है। वहीं प्रशासनिक अफसरों ने मास्क नहीं पहनने वालों के खिलाफ चालानी कार्रवाई करते हुए 6 माह में 11. 16 लाख रुपये वसूले।

खतरा बढ़ा और इधर कम हुआ मास्क वितरण

मार्च से जुलाई के बीच पुलिस व जिला प्रशासन ने कोरोना रोकने हेतु जमकर कार्रवाई की और मास्क भी बांटे।हालांकि जैसे-जैसे अनलॉक का दौर आगे बढ़ा और हर दिन 150 से 200 संक्रमित आने लगे, तो उधर पुलिस और जिला प्रशासन द्वारा चालानी कार्रवाई में भी कमी आ गई। वर्तमान में बाजारों में भीड़ व सड़कों पर ट्रैफिक का दबाव बढ़ गया है। ऐसे में अब और ज्यादा सतर्कता व सख्ती बरतने तथा मास्क बांटने की जरूरत है।

इनका कहना है

कोरोना की रोकथाम के लिए मास्क का पालन कराना हमारी प्राथमिकता में है। पुलिस मास्क नहीं पहनने वालों के चालान कर रही है, साथ ही उन्हें मास्क भी देती है।

अमित सांघी, एसपी ग्वालियर

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020