ग्वालियर। प्रिंसिपल को बर्खास्त करने की मांग को लेकर सोमवार को सिंधिया स्कूल का घेराव करने आए एबीवीपी कार्यकर्ताओं को पुलिस ने लाठीचार्ज कर खदेड़ दिया। लाठीचार्ज में आधा दर्जन से अधिक कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को एम्बुलेंस की मदद से इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया। सिर में लाठी लगने से कार्यकर्ता बलवीर बघेल मौके पर ही बेहोश हो गया।

सिंधिया स्कूल के 9वीं के छात्र आदर्श कुमार सिंह के आत्महत्या करने के प्रयास के मामले में स्कूल के प्रिंसिपल को बर्खास्त करने की मांग को लेकर सोमवार की दोपहर करीब 12.30 बजे एबीवीपी के आधा सैकड़ा कार्याकर्ताओं ने सिंधिया स्कूल का घेराव किया।

स्कूल में घुसने का किया प्रयास-

पुलिस ने सिंधिया स्कूल के गेट से कुछ ही दूरी पर प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए 2 स्थानों पर बैरीकेड्स लगा रखे थे। पुलिस ने पहले बैरिकेड्स पर कार्यकर्ताओं को रोकने का प्रयास किया, लेकिन कार्यकर्ता पहला बैरीकेड्स को क्रॉस कर दूसरे बैरीकेड्स के पास पहुंचकर धरने पर बैठ गए। कुछ समय बाद ही प्रदर्शनकारी उग्र हो गए और दूसरा बैरीकेड्स हटाकर स्कूल में घुसने का प्रयास करने लगे।

7 मिनट पुलिस के साथ हुई जोर आजमाइश-

7 मिनट तक एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने दूसरा बैरीकेड्स क्रॉस करने के लिए पुलिस के जवानों के साथ जोर आजमाइश की।

लाठीचार्ज कर खदेड़ा-

जोर आजमाइश में एसआई व कुछ जवानों के हाथों में चोट आने पर पुलिस का धैर्य टूट गया। मौके पर मौजूद वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का इशारा मिलते ही जवानों ने कार्यकर्ताओं को लाठियों से खदेड़ना शुरू कर दिया। पुलिस के लाठीचार्ज करते ही भगदड़ मच गई। प्रदर्शनकारी बचने के लिए इधर-उधर भागने लगे। लेकिन पुलिस के सामने जो कार्यकर्ता पड़ा उस पर लाठियों की बरसात कर दी।

सिर में मारे डंडे-

पुलिस के जवानों ने छात्रों को खदेड़ने के लिए उनके पैरों को निशाना बनाने की बजाए आंख बंदकर लाठियां भांजी। एक कार्यकर्ता मुंह में लाठी पड़ने से घायल हो गया।

बेहोश हुआ कार्यकर्ता-

लाठीचार्ज के बाद बलवीर बघेल अचेत होकर सड़क पर गिर गया। प्रदर्शनकारियों का आरोप था कि पुलिस की लाठियां बलवीर के सिर में लगने से उसकी यह हालत हुई है। पुलिस ने उनके साथ अपराधियों जैसा बर्ताव किया है। सीएसपी दीपक भार्गव ने सड़क पर पड़े कार्यकर्ता को पुलिस वाहन से अस्पताल पहुंचाने के लिए कहा। लेकिन किसी ने उनकी नहीं सुनी। करीब एक घंटे तक एम्बुलेंस के इंतजार में बलवीर सड़क पर ही पड़ा रहा। उसके साथी उसके मुंह पर पानी के छींटे मारते रहे।

पीठ दिखाते हुए कहा देखो कितना मारा-

एबीवीपी कार्यकर्ता अंकित राय ने अपनी पीठ पर लाठी के निशान दिखाते हुए कहा कि पुलिस ने उनको बेरहमी के साथ पीटा है, जबकि वह शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे थे।

हमारे साथ अपराधियों जैसा व्यवहार किया

कार्यकर्ता अंकित पाल ने कहा कि पुलिस ने हमारे साथ अपराधियों जैसा व्यवहार किया है। प्रदर्शन व आंदोलन में लाठीचार्ज चेतावनी देकर किया जाता है। लेकिन पुलिस ने यहां बगैर चेतावनी के लाठीचार्ज किया और उसके सिर में लाठी मारी है। अनिल कांत के मुंह में मुकुंद कटारे व लल्ला गुर्जर के हाथ में चोट आई हैं।

स्कूल प्राचार्य को बर्खास्त करने की मांग

एबीवीपी सिंधिया स्कूल के प्रिंसिपल को बर्खास्त करने की मांग को लेकर शांतिपूर्ण तरीके से स्कूल का घेराव कर रही थी। पुुलिस ने बेरहमी के साथ छात्रों पर लाठीचार्ज किया है। इसके खिलाफ आगे भी आंदोलन किया जाएगा।

अनिल बौहरे, संगठन मंत्री, एबीवीपी

स्कूल में घुसने का प्रयास कर रहे थे

एबीवीपी का पहले घेराव शांतिपूर्ण था, लेकिन पहला बैरीकेड्स पार कर दूसरे पर पहुंचने के बाद प्रदर्शनकारी उग्र हो गए और पुलिस जवानों को धकियाकर स्कूल में घुसने का प्रयास करने लगे। कार्यकर्ताओं को स्कूल में प्रवेश करने से रोकने के लिए हल्का बल प्रयोग करना पड़ा।

आरएस रघुवंशी, सीएसपी