बलबीर सिंह,(ग्वालियर नईदुनिया)। हाई कोर्ट में मंगलवार को नर्सिंग कालेजों की संबद्धता के मामले में फिर से सुनवाई होगी। सुनवाई के दौरान अतिरिक्त महाधिवक्ता एमपीएस रघुवंशी को जब्त रिकार्ड की वास्तुस्थिति पेश करना है। जिससे ये भी पता चलेगा कि कालेजों की संबद्धता में किस तरह की गड़बड़ी की जा रही है। गत दिवस भोपाल पुलिस ने बताया था कि कालेजों का रिकार्ड भीग चुका है, उसकाे सुखाकर लेकर आए हैं। रजिस्टर नहीं मिला, अधूरा रिकार्ड मिला है। काउंसिल के प्रशासक डा योगेश शर्मा ने बताया कि अधिकतर स्टाफ आउस सोर्स का है। यहां नियमित कर्मचारी नहीं है। इसलिए दिक्कतें आ रही हैं। 28 सितंबर काे चिकित्सा शिक्षा विभाग के डायरेक्टर मेडिकल एजुकेशन व इंंडियन नर्सिंग काउंसिल के सचिव को उपस्थित रहना होगा।

अंचल की 37 नर्सिंग कालेजों ने शिक्षण सत्र 2019-20 के विद्यार्थियों का नामांकन कर परीक्षा कराने की मांग को लेकर हाई कोर्ट में याचिका दायर की है। इन कालेजों की याचिकाएं 2021 से लंबित हैं। कालेजों की ओर से तर्क दिया गया कि एमएससी व पोस्ट बेसिक नर्सिंग में विद्यार्थियों को प्रवेश दिए थे, लेकिन मेडिकल यूनिवर्सिटी उनका नामांकन करके परीक्षा नहीं करा रही है। ऐसा करने से विद्यार्थियों का भविष्य खराब होगा। 22 सितंबर को नर्सिंग काउंसिल ने कालेजों की संबद्धता का रिकार्ड पेश किया था। यह रिकार्ड अधूरा था, जिसको लेकर कोर्ट ने नाराजगी जताई है। कोर्ट ने रिकार्ड जब्त करने का आदेश दिया था। इस आदेश पर भोपाल के अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर शैलैंद्र सिंह चौहान जब्त रिकार्ड के साथ हाई कोर्ट में उपस्थित हुए। साथ ही सील बंद लिफाफा भी लेकर आए। जब्ती के दौरान पूरा रिकार्ड नहीं मिला। संबद्धता का जो रजिस्टर संधारित किया जाता है, वह नहीं मिला। रिकार्ड भीगा हुआ था, जिसे सुखाना पड़ा। 35 कालेजों का रिकार्ड जब्त किया गया था। कोर्ट ने चिंता जताते हुआ कहा कि कालेजों की संबद्धता में जो गड़बड़िया चल रही हैं, वह कैसे रुकेंगी। अब डीएमई व इंडियन नर्सिंग काउंसिल के सचिव को उपस्थित होना होगा।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close