ग्वालियर,(नईदुनिया प्रतिनिधि)। सभी थाना प्रभारी बेसिक पुलिसिंग पर फोकस करें। इससे अपराधों में कमी आएगी और फरार आरोपित भी पकड़े जाएंगे। रात्रि गश्त के साथ शाम के समय सभी थाना प्रभारी अपने इलाके में पैदल भ्रमण जरूर करें। जिससे पुलिस की मौजूदगी बाजारों में दिखे। यह निर्देश बुधवार को ग्वालियर जोन के एडीजी डी.श्रीनिवास वर्मा ने पुलिस कंट्रोल रूम में पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए दिए।

एडीजी वर्मा और एसएसपी अमित सांघी ने अपराध समीक्षा बैठक ली। जिसमें एडीजी ने कहा हर सप्ताह थाना प्रभारी लंबित अपराधों की विवेचना की समीक्षा जरूर करें। जिससे लंबे समय से पेंडिंग अपराधों का निकाल हो सके। नवरात्रि के अवसर पर स्थापित माता के पंडालों के आयोजकों की सूची जरूर लें और उनसे संपर्क बनाए रखें। त्याैहार पर माहौल बिगाड़ने वालों के साथ सख्ती से पेश आएं। इन पर कड़ी कार्रवाई की जाए। एसएसपी सांघी ने बैठक में कोर्ट से जारी होने वाले वारंटों की तामीली समय सीमा में कराएं। चोरी, वाहन चोरी जैसी घटनाएं पर अंकुश लगाने के लिए चेकिंग पर ध्यान दें।

एएसपी मृगाखी डेका को मिली ट्रैफिक की जिम्मेदारी: एएसपी अभिनव चौकसे के स्थानांतरण के बाद एसएसपी अमित सांघी ने बुधवार को ग्वालियर में पदस्थ चारों एएसपी के कार्य विभाजित किए हैं। एएसपी मृगाखी डेका को ट्रैफिक की भी जिम्मेदारी दी गई है। इसके अलावा एएसपी राजेश दंडोतिया को क्राइम ब्रांच के साथ मुरार, यूनिवर्सिटी सर्किल की मानीटरिंग की जिम्मेदारी दी गई है। एएसपी गजेंद्र सिंह वर्धमान को इंदरगंज और लश्कर सर्किल की जिम्मेदारी दी है, इसके अलावा सीएम हेल्पलाइन, डीएसबी, आलंबन सेल, कम्युनिटी पुलिसिंग का नोडल अधिकारी बनाया गया है। एएसपी जयराज कुबेर को डबरा, भितरवार, बेहट, घाटीगांव अनुभाग की जिम्मेदारी दी गई है, वहीं पुलिस लाइन की मानीटरिंग की भी जिम्मेदारी उन्हीं पर है।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close