Adhik Maas 2020: ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि। अधिकमास (पुरुषोत्तम मास) के दौरान पूजा व्रत करने से जो फल मिलता है। उससे हजारों गुना अधिक फल पौधारोपण करने से मिलता है। जो लोग अधिक मास में व्रत, पूजा आदि नहीं कर पाए हैं वे पौधारोपण कर पुण्यलाभ कमा सकते हैं। अधिक मास को पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए ही बनाया गया हैं।

ज्योतिषाचार्य सतीश सोनी के अनुसार सनातन हिंदू ग्रंथों में पौधारोपण एवं वृक्ष, पहाड़, नदियों के संरक्षण को सबसे अधिक पुण्यशाली बताया गया है। जो व्यक्ति नदी, पहाड़, वृक्षों की रक्षा करता है उसे मृत्यु पश्चात स्वर्ग अथवा बैकुंठधाम की प्राप्ति होती है।

पौधारोपण करने से जहां पुण्यलाभ मिलता है। वहीं कई प्रकार के ग्रह व नक्षत्रों के दोष भी जातकों की कुंडली से खत्म हो जाते हैं। साथ ही उनका भाग्य भी उदय हो जाता है। विष्णु पुराण में बताया गया है कि अधिक मास में पौधारोपण करने से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है। ऐसा ही उल्लेख मनुस्मृति में बताया गया है। पेड़ की रक्षा व पौधारोपण करने से बड़े से बड़े यज्ञ का फल जातक को प्राप्त होता है।

नक्षत्रों के हिसाब से करें पौधारोपण

अधिक मास में ग्रह नक्षत्रों के हिसाब से पौधारोपण करना लाभदायक होता है, लेकिन अगर किसी को ग्रह नक्षत्रों के हिसाब से पौधारोपण की जानकारी नहीं है तो वह पीपल, बट, गूगल, नीम आदि के पौधे लगा सकते हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020