ग्वालियर। 12वीं का छात्र और पिता एयरफोर्स में कर्मचारी फिर भी दोस्तों के साथ पल्सर पर सवार होकर शहर में लूटपाट करता था। थाटीपुर पुलिस ने ऐसे ही दो लुटेरों को पकड़ा है। जिनसे एलआईसी एजेंट महिला से 30 हजार रुपए और दो मोबाइल लूट की वारदात का खुलासा सहित 4 वारदातों का खुलासा हुआ है। छात्र ने बताया कि अपने दोस्तों के साथ अय्याशी करने के लिए यह वारदात करता था। इनसे वारदात में उपयोग पल्सर बाइक, 4 मोबाइल बरामद हुए हैं। नकदी इन्होंने खर्च कर दी है।

टीआई थाटीपुर यशवंत गोयल ने बताया कि काफी समय से इलाके में हुई लूटपाट की घटनाओं को ट्रेस करने के लिए टीम लगी हुई थी। कुछ दिन पहले जड़ेरूआ गांव की एक काली पल्सर के बारे में सुराग मिला था। जिस पर एसआई हरीश त्रिपाठी और उनकी टीम ने काम किया।

कई पल्सरों को तलाश उसके बाद यह पल्सर उनके हाथ लगी। जिसके बाद दो लुटेरे 18 वर्षीय शेरू उर्फ सोहरान पुत्र मलखान सिंह गुर्जर निवासी गिरगांव महाराजपुरा व हरिओम बाल्मीकि निवासी जडेरूआ के रूप में हुई है। जब इनसे पूछताछ की गई तो पता लगा कि शेरू का पिता मलखान एयरफोर्स में एयरमैन है। साथ ही शेरू 12वीं का छात्र है और घर से भी सम्पन्न है। इसके बाद भी वह शहर में 4 लूट करना कबूल किया है।

उसने अपने साथ हरिओम के साथ जून 2017 में मुरार अपने भाई के घर से आ रही एलआईसी एजेंट से पर्स लूटना कबूल किया है। पर्स में 30 हजार रुपए व दो मोबाइल थे। मोबाइल बरामद हो गए हैं। जबकि रुपए खर्च कर दिए। इसके अलावा तीन और मोबाइल मिले हैं जिन्हें पिंटो पार्क व मुरार से लूटना कबूल कर रहा है। पूछताछ के बाद पुलिस ने दोनों को सोमवार को कोर्ट में पेश किया। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। आरोपी लुटेरा छात्र शेरू ने बताया कि वह दोस्तों के साथ अय्याशी करने के लिए मोबाइल झपटते थे। यह बहुत आसान था पुलिस का भी डर नहीं रहता था।

पड़ाव में दो दिन पहले पकड़ते बचा हरिओम

दो दिन पहले पड़ाव इलाके में मोबाइल लूटते ही एक लुटेरे विशाल को संध्या नाम की महिला ने पकड़ा था जबकि पकड़े गए लुटेरे ने साथी अर्जुन के भागने की बात बताई थी। पर उस दिन हरिओम बाल्मीकी भी इनके साथ था और वारदात असफल होने पर भाग गया था। हरिओम ही गिरोह का मास्टर माइंड है। नए लड़कों को वारदात के लिए तैयार करता था।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local