ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। जीआर मेडिकल कालेज के जयारोग्य अस्पताल के सुपर स्पेशियलिटी की आटो क्लेव मशीन खराब है। जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ रहा है। आपरेशन के उपयोग होने वाले उपकरणों का पुन: उपयोग करने से पहले आटो क्लेव किया जाता है। पर सुपर स्पेशियलिटी में लगी मशीनें खराब होने से उपकरण को आटो क्लेब के लिए ट्राेमा सेंटर भेजने पड़ रहे हैं। दरअसल सुपर स्पेशलिटी में डाक्टरों की भर्ती न होने के कारण हड्डी रोग विभाग को शिफ्ट कर दिया गया है। ऐसे में यहां प्रतिदिन पांच से छह मरीजों के आपरेशन भी किए जा रहे हैं। इसके अलावा सुपर स्पेशलिटी के विभागों में भर्ती होने वाले मरीजों के भी प्रतिदिन आपरेशन किए जा रहे हैं। लेकिन अस्पताल में लगी ऑटोक्लेव मशीन पिछले कुछ दिनों से बंद पड़ी हुई है। ऐसे में ऑपरेशन में उपयोग होने वाले उपकरणों को जयारोग्य अस्पताल के ट्रोमा सेन्टर में भेज कर स्टेरेलाइज कराया जा रहा है।

हड्डी रोग विभाग के डाक्टरों का कहना है कि उपकरणों को ट्रोमा सेन्टर में भेज कर स्टेरेलाइज कराया जा रहा है, जिस कारण परेशानी हो रही है। साथ ही मरीजों को संक्रमण होने का खतरा भी बना हुआ है। इतना ही नहीं ट्रोमा सेन्टर में पूर्व से ही मरीजों का अधिक भार होने के कारण कई बार उपकरण समय पर स्टेरेलाइज नहीं हो पाते और आपरेशन को टालना पड़ता है। इस संबंध में सुपर स्पेशलिटी के अधिकारियों का कहना है कि ऑटोक्लेव मशीन के लिए छत्त पर टंकी लगई हुई है, जिसे किसी ने तोड़ दिया। इस कारण यह परेशानी आ रही है। जिसे जल्द ही ठीक कराया जाएगा और मशीन को चालू करा लिया जाएगा जिससे आटो क्लेव यहीं पर किया जा सकेगा। सुपर स्पेशियलिटी में आर्थो के मरीज भर्ती होने से अब अधिक चहल पहल होने लगी है। इस कारण से आधुनिक भवन में गंदगी भी देखी जा रही है। जबकि इस भवन में आधुनिक इलाज दिया जाना था। पर सुपर स्पेशिलिटी में डाक्टरों की भर्ती न होने के कारण आधुनिक उपचार मरीजों को नहीं मिल पा रहा है। केंद्र सरकार व राज्य सरकार की मदद से 164 करोड़ की लागत से तैयार हुए भवन में पहले कोविड वार्ड बना रहा और अब विशेषज्ञ डाक्टरों की कमी के कारण इसमें आर्थो का वार्ड शिफ्ट कर दिया गया है।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close