ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। अयोध्या मसले पर शनिवार की सुबह निर्णय आने की खबर पर पूरा सरकारी तंत्र रात में हाई अलर्ट पर आ गया। कलेक्टर अनुराग चौधरी और एसपी नवनीत भसीन ने पुलिस कंट्रोल रूम में आपात बैठक बुलाई। एक-एक पुलिस अफसर और प्रशासनिक अधिकारी को अलर्ट के निर्देश जारी किए गए। आधी रात से ही कलेक्टर, एसपी, अपर कलेक्टर और सीएसपी ने शहर के मुख्य स्थानों की पेट्रोलिंग शुरू कर दी। कलेक्टर ने साफ कहा कि हर विभाग के अधिकारी-कर्मचारी की ड्यूटी लॉ एंड ऑर्डर में लगाई है। सभी की छुट्टियां निरस्त कर दी गई हैं, चाहे कोई बाहर भी क्यों नहीं गया हो।

शैक्षणिक संस्थान और शराब दुकानों को शनिवार को बंद रखने के आदेश दिए गए हैं। पुलिस और प्रशासन का अफसर ज्वाइंट तौर पर पेट्रोलिंग करेगा। गांव-गांव और शहर में हर इमरजेंसी सेवा फायर अमला, बिजली विभाग, नगर निगम सभी सेवाएं अलर्ट रहेंगी। पुलिस कंट्रोल रूम से लेकर शहरभर में अलग अलग जगह कंट्रोल रूम स्थापित किए गए हैं। कलेक्टर-एसपी ने अधिकारियों को कहा है कि वे हर सूचना को तत्काल साझा करेंगे।

सभी विभागों के सरकारी वाहन-अमला करेगा ड्यूटी

पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों और उनके वाहनों के अलावा सुरक्षा व्यवस्था में सभी विभागों को ड्यूटी पर लगाया गया है। इसमें नगर निगम की सभी गाड़ियों,मदाखलत अमला और वार्ड अधिकारियों को भी शामिल किया गया है। इसके साथ ही लोक स्वास्थ्य, पीडब्ल्यूडी, चिकित्सा शिक्षा सहित अधिकतर विभागों के अधिकारियों को क्षेत्र चिन्हित कर डयूटी करने के निर्देश जारी किए गए हैं।

अस्थाई कंट्रोल रूम, व्हाट्सएप ग्रुप बनाए गए

कलेक्टर और एसपी ने लॉ एंड ऑर्डर की दृष्टि से अधिकारियों के बीच बेहतर समन्वय के लिए व्हाट्सएप ग्रुप बना दिए हैं। महाराजबाड़ा पर बिजली कंपनी का कंट्रोल रूम और फायर बिग्रेड का कंट्रोल रूम बनाया गया है। हर सूचना को व्हाट्सएप ग्रुप और कंट्रोल रूम पर साझा किया जाएगा।

लाइन में फोर्स रिजर्व,जरूरत पड़ते ही अतिरिक्त भी आएगा

जिला और पुलिस लाइन में पुलिस फोर्स को शुक्रवार रात ही अलर्ट कर दिया गया है। पुलिस अधिकारियों से लेकर सिपाही तक की छुट्टी पर रोक लगा दी गई है। रिजर्व इंस्पेक्टर अरविंद दांगी ने बताया कि लाइन में बल को आपात डयूटी के लिए समझाइश दे दी गई है। पुलिस वाहनों का बेड़ा तैयार है।

हर गाड़ी में डीजल-पेट्रोल फुल रखो,अस्पताल-शेल्टर होम अलर्ट

-कलेक्टर और एसपी ने कहा कि सरकारी हर गाड़ी में डीजल-पेट्रोल से फुल रखा जाए। आपात स्थिति में कभी भी वाहन को कहीं भी दौड़ना पड़ सकता है।

-जेएएच,जिला अस्पताल,हजीरा अस्पताल से लेकर हर छोटे स्वास्थ्य संस्थान की इमरजेंसी सेवा और डॉक्टरों को अलर्ट किया गया है। कोई भी डयूटी डॉक्टर अपनी डयूटी नहीं छोड़ेगा।

-आरआई-पटवारी भी अपने क्षेत्रों में पुलिस के साथ पेट्रोलिंग पर रहेंगे। वह हर इनपुट को सीनियर ऑफिसर को बताएंगे।

इंटरनेट सेवा जरूरत पड़ी तो तत्काल होगा बंद

जिला प्रशासन ने इंटरनेट और टेलिफोन सेवाओं को लेकर उच्च स्तर पर मार्गदर्शन मांगा है। शनिवार को यदि जरूरत पड़ी तो ऐसा किया जा सकता है।

फूलबाग मैदान हुई बलवा परेड, पुलिस ने किया फ्लैग मार्च

अयोध्या पर फैसला आने से पहले शुक्रवार की शाम को पुलिस के 250 जवानों ने बलवा परेड का अभ्यास किया। बलवा परेड के बाद जवानों ने फूलबाग से लेकर सेवानगर, किलागेट से हजीरा तक फ्लैग मार्च किया। आरआई अरविंद दांगी ने बताया कि शुक्रवार की शाम को फूलबाग में आयोजित की गई बलवा परेड के अभ्यास में दो टीमें बनाईं गईं थी। जवानों की एक टोली सिविल में थी। इन लोगों को उपद्रव करने का था। दूसरी तरफ पूरी तैयारी के साथ पुलिस के जवानों को शासकीय व प्राइवेट संपति को नुकसान पहुंचाने वालों को कंट्रोल में करना था। पहले उपद्रवियों ने पथराव किया, चेतावनी के साथ हल्का बल प्रयोग किया।

उसके बाद अनियंत्रित भीड़ कंट्रोल में नही होने पर अश्रू गैस का इस्तेमाल किया गया। शासकीय संपति बचाने के लिए फायरिंग कर दंगाइयों को खदेड़ा गया। बलवा परेड के अभ्यास के बाद फूलबाग से फ्लैग मार्च शुरू हुआ। साईं बाबा मंदिर, सेवानगर किला गेट व हजीरा पहुंचकर फ्लैग मार्च समाप्त हुआ।

अफवाह रोकने सोशल मीडिया सेल और अलग से 144 आदेश जारी

अयोध्या निर्णय को लेकर जिले में कलेक्टर ने सोशल मीडिया को 144 धारा की जद में लेते हुए आदेश जारी कर दिया है। सोशल मीडिया पर कोई भी अफवाह फैलाने वाली पोस्ट, भड़काऊ पोस्ट से लेकर कोई भी ऐसा कंटेंट डाला जिससे सामाजिक सौहार्द को खतरा है,उसके खिलाफ 188 धारा के तहत कार्रवाई की जाएगी। वहीं जिला प्रशासन ने सोशल मीडिया सेल का गठन किया है जिसमें एक अधिकारी की नियुक्ति अलग से की गई है। यह सेल सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म पर निगरानी रखेगा कि कोई अफवाह या गलत पोस्ट तो नहीं डाल रहा है।

रेलवेः स्टेशन-ट्रेन में चेकिंग,डॉग स्क्वॉड भी उतारा

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के संभावित फैसले को देखते हुए रेलवे प्रशासन ने सभी स्टेशनों पर अलर्ट घोषित कर दिया है। सभी टिकट चेकिंग स्टाफ, आरपीएफ, जीआरपी को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं। स्टेशनों पर चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। डॉग स्कॉड एवं मेटल डिटेक्टर की मदद से सामान की जांच की जाएगी। इतना ही नहीं चेकिंग के दौरान यदि कोई मानसिक रोगी मिलता है तो उसकी भी पूरी जांच की जाएगी। सीसीटीवी के माध्यम से संदिग्ध गतिविधियों पर निगरानी रखने के निर्देश दिए गए हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network