- ग्वालियर में एमपी सेल्स कंपनी का ठेका सरेंडर, एक साल और चलाने अब निकाले टेंडर

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। ग्वालियर में रेत खदानों के लिए टेंडर 18 जुलाई को खुलेंगे। जिले में रेत का ठेका लेने वाली कंपनी एमपी सेल्स फेल होने के बाद सरेंडर का आवेदन दे चुकी है, जो स्वीकार भी कर लिया गया है। दो साल तो एमपी सेल्स ने रेत का ठेका चला लिया, लेकिन इसके बाद घाटा होने का दावा किया गया और सरेंडर का आवेदन दे दिया। अब एक साल की अवधि बची होने के कारण रेत खदानों के लिए टेंडर किए जा रहे हैं, जो जारी कर दिया गया है और 18 जुलाई को खुलेगा। अभी तक दो से तीन कंपनियों ने रुचि दिखाई है, लेकिन आवेदन नहीं किया है। वहीं 30 जून की रात से रेत के खनन पर प्रतिबंध लग जाएगा, जो कि मानसून के सीजन बाद ही हटेगा। इस दौरान अवैध खनन करने वालों पर सख्त कार्रवाई करने का दावा प्रशासन ने किया है।

ग्वालियर जिले में रेत खदानों का ठेका एमपी सेल्स के मनोज अग्रवाल के पास है। इसमें कई पार्टनर भी हैं। रेत खदानों से अवैध खनन को लेकर भी कंपनी पर सवाल खड़े हुए थे, जिसके बाद जांच भी हुई थी। अब एक साल के लिए रेत खदानों के ठेके की आफसेट कीमत 12 करोड़ रखी गई है, जिसके बाद बोली लगेगी और यह कीमत काफी आगे निकलने की संभावना है। खनिज विभाग ने नए टेंडर को लेकर पूरी तैयारी कर ली है।

खनन को लेकर शिकायत मिलते ही सख्त कार्रवाई की जाएगी। हाइवे पर अवैध ढंग से रेत लाने वाले डंपर व ट्रैक्टर ट्रालियों पर अभियान चलाकर कार्रवाई करेंगे। संदिग्ध भूमिका वालों पर सख्ती करेंगे।

डा. इच्छित गढ़पाले, अपर जिला मजिस्ट्रेट,शहर

रेत के अवैध परिवहन व खनन पर कार्रवाई की जाती है। चुनाव के बाद बड़े स्तर पर हम अभियान चलाकर कार्रवाई करेंगे। रेत खनन पर प्रतिबंध के बाद डबरा व भितरवार बेल्ट में विशेष निगरानी रखेंगे। खनिज विभाग व पुलिस का सहयोग लिया जाएगा।

एचबी शर्मा, अपर जिला मजिस्ट्रेट, ग्रामीण

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close