ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि

महाराज बाड़े पर अवैध पार्किंग के मामले में एफआईआर होने के बाद पार्किंग प्रभारी टीसी मुन्नाालाल सेन और मदाखलत अधिकारी शशिकांत शुक्ला में तनातनी शुरू हो गई है। पार्किंग प्रभारी ने मंगलवार को आईजी को ज्ञापन देकर षड़यंत्रपूर्वक मामला दर्ज कराने का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की है। श्री सेन ने श्री शुक्ला पर षड़यंत्र रचने और अवैध पार्किंग संचालन में सहयोग करने का आरोप लगाया है। श्री शुक्ला ने आरोपों को झूठा बताया है।

जांच की मांग

पार्किंग प्रभारी श्री सेन ने आईजी को दिए ज्ञापन में कहा कि बाड़े पर केवल गोरखी की पार्किंग का संचालन ही नगर निगम करता है। वह उसके प्रभारी हैं। पार्किंग पर उनके रहते अवैध वसूली की कोई शिकायत नहीं आई। लेकिन पिछले माह निगम के ही मदाखलत गैंग के कर्मचारी रूपेन्द्र सोनकर ने निगम की भंडार शाखा से दो रसीद कट्टे आवंटित कर विक्टोरिया मार्केट और टाउन हॉल के सामने अवैध पार्किंग शुरू कर दी। मैंने इसकी शिकायत 28 सितंबर को अपर आयुक्त से की। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। 19 अक्टूबर को दक्षिण विधानसभा के मदाखलत अधिकारी शशिकांत शुक्ला ने फोन कर कहा कि रूपेन्द्र को दो रसीद कट्टे दे दो। चूंकि वे अधिकारी हैं इसलिए मैंने उनके कहने पर रसीद कट्टे दे दिए। रूपेन्द्र ने इन रसीदों से अवैध वसूली शुरू कर दी और मुझे षड़यंत्रपूर्वक फंसा दिया।

निगम अधिकारियों की संलिप्तता

अवैध पार्किंग का जो मामला सामने आ रहा है उससे आशंका है कि इसमें निगम के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हैं। क्योंकि मामला डेढ़ माह पहले संज्ञान में आ चुका था फिर भी जांच क्यों नहीं कराई। तीन दिन से मामला सुर्खियों में होने के बाद भी मंगलवार तक जांच शुरू नहीं हो सकी। श्री सेन पर एफआईआर दर्ज हो चुकी है। पुलिस उसकी गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है। इसलिए तुरंत जांच कर सच्चाई सामने लाई जाना चाहिए।

इनका कहना है

मुझे षड़यंत्र के तहत झूठा फंसाया है। मामले की जांच होना चाहिए। इसलिए आईजी व निगमायुक्त को आवेदन दिया है।

मुन्नाालाल सेन, उप राजस्व निरीक्षक ननि

-मेरा कोई लेना-देना नहीं

पार्किंग से मेरा कोई लेना-देना ही नहीं है फिर रसीद कट्टों के लिए क्यों फोन करूंगा। आरोप निराधार हैं। इसकी जांच होना चाहिए।

शशिकांत शुक्ला, मदाखलत अधिकारी

Posted By: