ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि

सर्दी के तेवर तीखे होते ही कोहरे की चादर छाने लगी है। जिसका सीधा असर रेल यातायात पर पड़ा है। शनिवार को भी करीब आधा दर्जन ट्रेनें अपने निर्धारित समय से एक से डेढ़ घंटा देरी से ग्वालियर पहुंची हैं। वहीं आगरा से ग्वालियर की तरफ आ रही ताज एक्सप्रेस के चक्कों से धुआं उठने से हडकंप मच गया। गार्ड-पायलट ने ब्रेक रिलीज किए तब ट्रेन आगे रवाना हुई। इसके चलते ताज करीब 2. 38 घंटे देरी से ग्वालियर पहुंची है।

शनिवार को सुबह 8 बजे से ही दिल्ली के आसपास घना कोहरा रहा है। इसके चलते दिल्ली से आने वाली शताब्दी एक्सप्रेस 34 मिनट, अहमदाबाद आगरा ग्वालियर एक्सप्रेस 42 मिनट, गतिमान एक्सप्रेस 34 मिनट, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस 1.45 घंटा, कर्नाटक संपर्क क्रांति 49 मिनट, पंजाब मेल 59 मिनट, उदयपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस 1.04 घंटा, हमसफर एक्सप्रेस 2.26 घंटे देरी से ग्वालियर पहुंची है। कोहरे को देखते हुए रेलवे ट्रैक की पेट्रोलिंग करने वाले ट्रैकमेन व कीमैन की निगरानी जीपीएस ट्रैकर से की जाने लगी है। जिससे ड्यूटी के दौरान कर्मचारी कोई लापरवाही नहीं बरत सकें। इस ट्रैकर के जरिए कभी भी लोकेशन को ट्रैस किया जा सकता है। सर्दी में रेल फ्रेक्चर की घटनाओं को देखते हुए पेट्रोलिंग भी बढ़ाई गई है। साथ ही उत्तर मध्य रेलवे के हर मंडल में दो सिस्टम का एक कंट्रोल रूम बनाया गया है। जिसमें ट्रैक पर पेट्रोलिंग करने वाले कर्मचारियों की लोकेशन सेव होगी। इस दौरान यदि कोई ट्रैकमेन या कीमेन यदि जीपीएस मॉनीटरिंग में गायब दिखाई देगा तो संबंधित रूट की ट्रेनों को कॉशन देकर निकाला जाएगा।

ताज एक्सप्रेस में धुआं, लेट आई ट्रेनः-निजामुद्दीन से झांसी जाने वाली ताज एक्सप्रेस के डी-2 कोच के चक्कों से अचानक धुआं निकलने लगा। ट्रेन जब आगरा से ग्वालियर की तरफ आ रही थी तब घटना हुई। यात्रियों ने जब धुआं देखा तो तत्काल चैन पुलिंग की। इधर ट्रेन में आग लगने की अफवाह से अफरा तफरी मच गई। गार्ड एवं चालक ने कोच के चक्के(पहियों) को चैक किया। करीब 40 मिनट तक ट्रेन खड़ी रही। पहियों को चैक करने के बाद धीमी रफ्तार से उसे आगे बढ़ाया। जाजऊ-मनिया के बीच ट्रेन को रोककर ब्रेक रिलीज(ब्रेक के जाम होने की स्थिति को ठीक किया) किए। इसके चलते ट्रेन करीब 2.38 घंटे की देरी से ग्वालियर पहुंची।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket