फोटो--------

ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि

नगर निगम द्वारा लालटिपारा में संचालित आदर्श गौशाला की व्यवस्थाएं संभाल रहे श्रीकृष्णायन देशी गौरक्षाशाला द्वारा आसपास के क्षेत्र में गौशालाओं को भी मजबूत किया जा रहा है। इसी क्रम में कनेरझील घाटीगांव के जंगल में संचालित होने वाली वनखंडी गौशाला को पक्षी विशेषज्ञ गौरव परिहार ने ट्रॉली एंबुलेंस भेंट की। इस एंबुलेंस को दो पहिया वाहन से भी लाया जा सकता है। इसके चलते हाइवे पर पड़े घायल गौवंश को वनखंडी गौशाला में उपचार के लिए ले जाया जा सकेगा।

घाटीगांव के पास कनेरझील स्थित वनखंडी गौशाला संचालित होती है। इस गौशाला को वनखंडीधाम पर रहने वाले संतों द्वारा संचालित किया जाता है। साथ ही यहां पर घायल गाय एवं जंगली पशुओं का भी उपचार महाराज द्वारा किया जाता है। ग्वालियर में पक्षी विशेषज्ञ गौरव परिहार ने गौशाला में ट्रॉली एंबुलेंस को निर्मित करा कर भेंट की है। इस एंबुलेंस का एक हिस्सा पूरी तरह से खुल जाता है, जिससे इसमें घायल पशु एवं गाय को रखा जा सकता है। चूंकि यह ट्रॉली एंबुलेंस वजन में हल्की है इसलिए इसे दो पहिया वाहन से भी खींचा जा सकता है।

संतों ने दान दिए तिरपाल

वनखंडी गौशाला में गायों को सर्दी से बचाने के लिए श्रीकृष्णायन देशी गौरक्षाशाला के संत ऋृषभानंद महाराज ने तिरपाल मंगाकर दान दिए हैं। इन त्रिपालों की मदद से वहां पर गौवंश को सर्दी से बचाया जा सकेगा।

गौशाला में घूमते है हिरण और नीलगाय

चूंकि यह गौशाला सोनचिरैया अभयारण्य के किनारे पर स्थित है, इसलिए यहां पर अक्सर हिरण और नीलगाय आ जाती हैं। जो हिरण, नीलगाय सहित अन्य शाकाहरी पशु घायल अवस्था में आते हैं इनका उपचार संतों द्वारा किया जाता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket