फोटो

ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि

ऊर्जा दक्षता और नई तकनीकि एवं नवाचार विषय पर शनिवार को चैंबर भवन में फिक्की एवं चैंबर ऑफ कॉमर्स के संयुक्त तत्वावधान में कार्यशाला संपन्ना हुई। कार्यक्रम में दिल्ली से आए एक्सपर्ट ट्रेनर सौरभ मिश्रा ने पॉवर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से ऊर्जा दक्षता मिशन, बिल्डिंग न्यू मार्केट, लॉनिंचिंग न्यू प्रोडक्ट्स एट एट ग्वालियर आदि पर विस्तार से जानकारी दी। जिसमें उन्होंने कहा, देश में सभी एमएसएमई इकाईयों को ऊर्जा क्षमता का ऑडिट कराया जाना अब आवश्यक हो गया है। ऊर्जा दक्षता के ऑडीटर देश में केवल 252 हैं और मध्यप्रदेश में केवल एक ही है। इसके लिए यूनिट्स को पैसा खर्च नहीं करना है। साथ ही, इकाई का डाटा किसी भी कीमत पर लीक नहीं होगा और न ही यह डाटा ऑडीटर द्वारा सरकार के किसी विभाग को शेयर किया जाएगा। इस बात की गारंटी ईडीआईआई देती है और यह अंडर टेकिंग में आता है। मिश्रा ने कहा कि इकाई की ऊर्जा खपत का ऑडिट कर छोटे-मोटे सुधार करने से आप बिजली पर होने वाले खर्च को काफी कम कर सकते हैं।

कार्यक्रम में चैंबर के मानसेवी सचिव प्रवीण अग्रवाल, एमएसएमई उद्यमी संजय धवन, दीपक पमनानी, अरविंद नाहर, आदेश बंसल, विनोद सूरी समेत अन्य मौजूद रहे।

डिजीटल मार्केटिंग पर भी करें फोकस

एक्सपर्ट ने कहा कि ग्वालियर में बनने वाले प्रोडक्ट को आप डिजीटल मार्केटिंग के जरिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी विक्रय कर सकते हैं। इसके लिए उन्होंने इंदौर की एमएसएमई इकाई शक्ति पंप का उदाहरण देते हुए बताया कि आज यह इकाई अपना प्रोडक्ट अफ्रीकन देशों में बेच रही है और 15-20 साल में ही जाना पहचाना ब्रांड बन चुकी है। इसके साथ ही सोलर पैनल का इस्तेमाल करने की अपील भी एक्सपर्ट ने की। उन्होंने कहा कि सोलर पैनल के माध्यम से अपने संस्थान की विद्युत संबंधी जरूरतें पूरी कर सकते हैं और अतिरिक्त बिजली को ग्रिड को बेच सकते हैं। इससे आपकी इकाई का बिजली बिल न्यूनतम हो सकता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket