ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। मध्यप्रदेश के डीजी जेल अरविंद कुमार शनिवार को केंद्रीय जेल ग्वालियर का निरीक्षण करने पहुंचे। यहां कैदियों को दिए जाने वाले खाने को खुद चखा, इसके तुरंत बाद खाद्य सामग्री की गुणवत्ता पर सवाल खड़े किए। उन्होंने तत्काल खुद ही खाद्य सामग्री की सैंपलिंग कराई। कैदियों को दिए जाने वाले खाने को लेकर वह असंतुष्ट दिखे। इसके अलावा उन्होंने जेल में सुरक्षा, सीसीटीवी कैमरे, अस्पताल की व्यवस्थाएं देखीं, साथ ही कैदियों से बातचीत भी की।

यहां बता दें कि डीजी जेल अरविंद कुमार शुक्रवार को ग्वालियर आ गए थे। इसके बाद शुक्रवार शाम को भी केंद्रीय जेल पहुंचे थे। शुक्रवार शाम के बाद शनिवार सुबह करीब 10.30 बजे केंद्रीय जेल ग्वालियर पहुंच गए। यहां करीब एक घंटे तक रुके और जेल की सभी व्यवस्थाओं का जायजा लिया। डीजी जेल अरविंद कुमार से नईदुनिया संवाददाता ने बात की तो उन्होंने निरीक्षण के दौरान क्या पाया, यह जानकारी साझा की।

खाना: जेल में बंद कैदियों द्वारा अक्सर खाने को लेकर शिकायत की जाती है। बीच में कई बार जेल से कैदियों ने शिकायत भी भेजी। डीजी जेल अरविंद कुमार ने नईदुनिया को बताया कि उन्होंने वह खाना खाकर देखा जो कैदियों को दिया जाता है। खाद्य सामग्री की गुणवत्ता को लेकर वह संतुष्ट नहीं थे, इसके चलते उन्होंने इसकी सैंपलिंग कराई। रिपोर्ट आने से स्थिति स्पष्ट होगी।

कैदी: उन्होंने बताया कि कई कैदियों से बात की, इसमें कुछ कैदियों का दावा था कि उन्हें पता ही नहीं है, वह किस मामले में यहां बंद हैं। ऐसे कैदियों की जानकारी ली है। डीजी जेल ने बताया कि ऐसे कैदियों के संबंध में डीजीपी सुधीर सक्सेना से चर्चा करेंगे। इसके अलावा भी कुछ ऐसे मामले हैं, जिनमें जिला पुलिस बल से समन्वय की जरूरत है, इसे लेकर भी चर्चा करेंगे। उन्होंने बताया कि बीमार कैदियों से भी चर्चा की, उनकी समस्याएं सुनी और उन्हें दूर करने के निर्देश जेल अधीक्षक को दिए।

एक ही जगह जमे जेलकर्मियों को लेकर दिए निर्देश:

डीजी जेल ने बताया कि अक्सर शिकायत रहती है, ड्यूटी करने वाले जेल प्रहरी सालों से एक ही जगह जमे हैं। यह स्थिति यहां भी है। इसे लेकर जेल अधिकारियों को निर्देशित किया है। साथ ही ड्यूटी के दौरान सतर्कता बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने यह भी बताया कि कैदियों के सुधार के लिए किए गए प्रयासों को देखा, इसे बढ़ाने को लेकर निर्देश दिए।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close