- 15 से 16 अगस्त के बीच भारी वर्षा के आसार

ग्वालियर। (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शनिवार को सुबह से बादल छा गए, धूप निकलने से उमस भरी गर्मी का सामना करना पड़ा। दोपहर में उमस और बढ़ेगी। इसके असर से शाम तक स्थानीय प्रभाव से झमाझम वर्षा के सार रहेंगे। इस महीने की पहली भारी वर्षा 15 व 16 अगस्त को संभावित है। क्योंकि बंगाल की खाड़ी का जो नया कम दवाब का क्षेत्र बना हु है, झारखंड से उत्तर प्रदेश के रास्ते गे बढ़ेगा। बुंदेखंड में वर्षा करते हुए ग्वालियर चंबल संभाग की ओर एगा।

सावन महीना बीत गया। इस महीने मानसून ने काफी लाज रखी। जिला में औसत से दो फीसद वर्षा अधिक दर्ज हुई है। शहर की स्थित देखी जाए तो सावन में 245.2 मिमी वर्षा दर्ज हुई। इस वजह से शहर में औसत वर्षा 400 मिमी के ऊपर पहुंच गई। अब भादौं का महीना शुरू हो गया।

मानसून ट्रफ लाइन गुना तक ई, अगले दो दिन में सकती है ग्वालियर

- मानसून ट्रफ लाइन काफी नीचे खिसक गई थी, जिसकी वजह से शहर में बादल छा रहे थे, लेकिन शुक्रवार को यह प्रदेश के मध्य हिस्से से खिसककर गुना तक गई है। गुना के पास अाने की वजह से शुक्रवार को शहर सहित जिले में रुक-रुक तेज वर्षा हुई। पिछले 24 घंटे में 24 मिमी वर्षा दर्ज हुई।

- मौसम विभाग के अनुसार अगले दो दिनों में मानसून ट्रफ लाइन ग्वालियर के ऊपर से होते हुए गुजर सकती है। जिससे वर्षा की गतिविधि में तेजी एगी। 15 व 16 अगस्त को भारी वर्षा की संभावना है।

- 13 अगस्त को बंगाल की खाड़ी में नया कम दवाब का क्षेत्र विकसित हो रहा है, इसके असर से ग्वालियर चंबल संभाग में वर्षा तेजी एगी। 13 व 14 अगस्त को स्थानीय प्रभाव से कहीं अधिक तो कहीं तेज वर्षा हो सकती है।

गुना व अशोकनगर की वर्षा दो बांध भरे, शेष खाली

-गुना व अशोकनगर में मानसून ज्यादा मेहरबान रहा है। इस कारण मड़ीखेड़ा बांध (अटल सागर) पानी अा गया। इसके पानी से हरसी भी भर गया। इससे डबरा-भितवार में हरसी बांध के पानी से धान हो गई की फसल हो गई।

- घाटीगांव, पौहरी, बैराड़ में कम वर्षा होने की वजह से अपर ककैटो, ककैटो व तिघरा बांध खाली हैं। पिछले साल पोहरी व बैराड में हुई वर्षा के कारण एक रात में अपर ककैटो व ककैटो बांध भर गए थे। तिघरा को भी इन्हीं बांंधों के पानी से भर दिया था।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close