ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। इंदरगंज चौराहे पर लगने वाले जाम से इस साल राहत मिलने की उम्मीद है, क्योंकि सितंबर 2022 तक कलेक्ट्रेट पहाड़ी के पास जिला एवं सत्र न्यायालय के नवीन भवन का निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा। साल के अंत तक जिला न्यायालय भी कलेक्ट्रेट के पास पहुंच सकता है। न्यायालय के नए भवन में इसके पहुंचने से इंदरगंज चौराहे की भीड़ खत्म हो जाएगी।

जिला एवं सत्र न्यायालय में प्रतिदिन साढ़े चार से पांच हजार लोगों का आना जाना रहता है। अधिकतर लोगों के पास गाड़ियां रहती हैं। यहां पर पार्किंग का सबसे बड़ा संकट है। इंदरगंज चौराहे के चारों ओर दोपहिया वाहनों को पार्क कर देते हैं। सड़क किनारे भी गाड़ियां खड़ी रहती हैं। इससे इंदरगंज चौराहे पर दिन में ट्रैफिक जाम बना रहता है, जिस दिन न्यायालय की छुट्टी रहती है, उस दिन बड़ी राहत रहती है। साल के अंत तक कलेक्टेट पहाड़ी के पास यह न्यायालय पहुंच सकता है, जिससे पांच हजार लोगों की भीड़ खत्म हो जाएगी। नवीन भवन में पार्किंग के लिए काफी जगह संरक्षित है। नए भवन में पार्किंग का संकट नहीं होगा।

निर्माण पर एक नजरः

-जिला न्यायालय के नवीन भवन के निर्माण की स्वीकृति 1999 में दी गई थी। उस वक्त 25 करोड़ रुपये का प्रविधान किया गया था।

-2006 में इस भवन का निर्माण शुरू कर दिया था। पहले पीडब्ल्यूडी इसका निर्माण करा रही थी।

-इस भवन का समय पर काम पूरा नहीं हो सका। 13 साल से लगातार काम चल रहा है। 2014 में भवन की लागत को पुनरीक्षित किया गया। 38 करोड़ की वृद्धि की गई।

-ठेकेदार ने बीच में काम छोड़ दिया। इस कारण लागत में 3.19 करोड़ और बढ़ गए। 2014 में लागत 66.41 करोड़ रुपये पहुंच गई।

-फिर से एस्टीमेट पुरीक्षित किया गया, लेकिन अब पीआइयू ( प्रोजेक्ट इंप्लीमेंट यूनिट ) को दे दिया है। इस भवन की लागत 82 करोड़ पर पहुंच गई है।

-पीआइयू के पास जिम्मेदारी आने के बाद तेजी से काम किया जा रहा है। सितंबर 2022 तक भवन बनकर तैयार हो सकता है।

वर्जन-

सितंबर 2022 तक नवीन भवन के निर्माण का कार्य पूरा हो जाएगा। इस साल नए भवन में जिला न्यायालय शुरू हो सकता है।

प्रदीप अष्टपुत्रे, कार्यपालन यंत्री पीआइयू

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local