ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। इस बार कोरोना तेजी से लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। किसी को बुखार तो किसी को अन्य लक्षण आ रहे हैं। इस बार कम ही लोग ऐसे हैं जिन्हें किसी तरह के कोई लक्षण नहीं है। जबकि अधिकांश लोगों को सर्दी ,जुकाम व ,बुखार या बदन दर्द अथवा डी हाइड्रेशन की शिकायत आ रही है। इसके बाद भी अस्पताल में भर्ती होने वालों की संख्या न के बराबर है। अबतक कुल 40 मरीज ही अस्पताल में भर्ती हो सके हैं। इस वक्त जेएएच में महज 6 मरीज भर्ती हैं। जिसमें एक मरीज को ऑक्सीजन की आवश्यकता पड़ी है। बाकी के मरीज बिना ऑक्सीजन के ही अस्पताल में इलाज ले रहे हैं।

खास बात यह है कि होमआइसोलेट रहने वाले मरीजों को इस बार एंटीबायटिक दवा एजीथ्रोमाइसिन भी नहीं दी जा रही है। उन्हें एक सामान्य वायरल के तौर पर ही इलाज दिया जा रहा है। राहत की बात यह है कि लोग ठीक भी हो रहे हैं। तीन दिन में मरीज बीमारी से ठीक हो रहा है। दो दिन बुखार और एक दिन कमजोरी के बाद चौथे दिन मरीज को आराम मिल रहा है। अस्पताल में जो मरीज भर्ती हुए हैं उन्हें कोरोना के अलावा अन्य कोई न कोई गंभीर बीमारी रही है जिसके चलते उन्हें भर्ती होना पड़ रहा है। एंटीबायटिक भी उन्हें कोरोना के लिए नहीं बल्की अन्य बीमारियों के चलते डाक्टरों को देनी पड़ रही है। जिले में एक्टिव केस की संख्या 3869 हो चुकी है लेकिन मरीजों की भर्ती की संख्या न के बराबर है। इसलिए डाक्टरों का कहना है कि काेविड नियमों का पालन करो और ठंड से बचो यही कोरोना से बचने का सही उपाय है।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local