Coronavirus in Gwalior : ग्वालियर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना संक्रमण के चलते जीवाजी विश्वविद्यालय (जेयू) को पांच दिन के लिए बंद रखने का फैसला लिया गया है। 14 जुलाई से 18 जुलाई के बीच प्रशासनिक भवन व अध्ययन शालाएं बंद रहेंगी और कर्मचारी घर से काम (वर्क फ्रॉम होम) करेंगे। परिसर में कोई भी बिना मास्क के घूमते मिला तो 500 रुपये जुर्माना लगाया जाएगा। जेयू के प्रोफेसर जबलपुर से लौटकर आए थे। जबलपुर से लौटने के बाद उन्होंने जेयू में काफी लोगों से मुलाकात भी की। जब इनमें कोरोना के लक्षण दिखे तब जेयू के विभागों में आवागमन था। एक कार्यक्रम में भी भाग लिया था। इस कार्यक्रम में सभी अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे। जब इनमें लक्षण बढ़े तो सैंपल जांच के लिए भेजा गया। बीते दिनों प्रोफेसर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी। प्रोफेसर जेयू के परिसर में ही निवास करते हैं।

जब प्रोफेसर के पॉजिटिव होने की सूचना जेयू में फैली तो अधिकारी, शिक्षक व कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। 11 जुलाई को शिक्षक संघ सहित कर्मचारी संघ ने भी अपनी परेशानी से कुलपति व कुलसचिव को अवगत कराया। जीवाजी विश्वविद्यालय तृतीय श्रेणी कर्मचारी संघ की ओर से कहा गया कि प्रोफेसर कोरोना पॉजिटिव निकले हैं, जो काफी चिंताजनक है। शहर में सामुदायिक संक्रमण फैल चुका है। जेयू में भी संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है।

जेयू को बंद रखा जाए

जेयू प्रशासन ने सोमवार को आदेश जारी कर 14 जुलाई से पांच दिन तक बंद रखने का फैसला लिया है। यह दिशा निर्देश किए गए हैं जारी

- परिसर में प्रवेश पूर्णतः बंद रहेगा। दूध, माली व अन्य काम करने वालों को प्रवेश दिया जाएगा, लेकिन उन्हें मास्क लगाना होगा। मास्क नहीं लगाने पर 500 रुपये जुर्माना वसूला जाएगा।

- जेयू के सभी गेट बंद रहेंगे। बाहरी व्यक्ति का प्रवेश बंद रहेगा।

- आवासीय परिसर से कोई व्यक्ति 24 घंटे बाहर रहता है। नगर निगम सीमा के बाहर जाता है तो उसे घर में ही क्वारंटाइन रहना होगा।

- अगर किसी कर्मचारी में कोरोना वायरस जैसा लक्षण दिखता है तो उसकी तुरंत सूचना देनी होगी। उपस्थिति रही कम

- कोरोना वायरस का भय बताकर सोमवार को कम ही कर्मचारी आए। मुख्य प्रवेश द्वारों पर तापमान नापकर अंदर प्रवेश दिया गया। साथ ही अंदर जाने से पहले पूछा जाने लगा कि क्या काम है। छात्रों को बाहर से लौटाने के लिए कहा तो गेटों पर झगड़े की नौबत भी आई।

- छात्र भी अपनी रिजल्ट सहित अन्य समस्याएं लेकर जेयू पहुंचे। बाद में छात्र निराश होकर लौट आए।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan