Coronavirus in Gwalior : ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना को रोकने में नाकाम जिला प्रशासन अब बार-बार लॉकडाउन का इस्तेमाल कर रहा है। जबकि सरकार भी साफ कर चुकी है कि यह कोई स्थाई समाधान नहीं है। अब रक्षाबंधन के त्योहार पर फिर तीन दिन के लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई है। तीन माह के लॉकडाउन के बाद जून में बाजार खुला था, इसके बाद भी केवल 263 मरीज मिले थे। जबकि जुलाई माह में 11 दिन के बंद के बाद भी 2022 मरीज मिल चुके हैं। इतना ही नहीं 17 मौतें भी अब तक हो चुकी हैं।

मार्च, अप्रैल व मई माह में टोटल लॉकडाउन रहा था। इस अवधि में पुलिस-प्रशासन ने सख्ती बरती, इसलिए केवल 130 पॉजिटिव मरीज मिले थे। इसमें भी अधिकांश ट्रेवल हिस्ट्री वाले थे। जून से बाजार खुल गया था। रविवार को लॉकडाउन यथावत रखा गया था। इसमें प्रशासन-पुलिस पूरी तरह से लापरवाह दिखाई दिए थे। दुकानों पर मास्क नहीं लगाने एवं सुरक्षित शारीरिक दूरी का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ जुर्माने की कार्रवाई तेज गति से की गई। इससे बाजार से कोरोना घर तक नहीं पहुंच सका। जून माह में केवल 4 दिन लॉकडाउन रहा था, फिर भी नए मरीज केवल 263 ही मिले थे। जबकि जुलाई के पहले सप्ताह से ही जब मरीज बढ़ना शुरू हुए तो प्रशासन के होश उड़ गए। आनन-फानन में एक सप्ताह के लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई।

जबकि अधिकांश व्यापारिक एवं राजनीतिक संगठन इसके विरोध में थे। इसका कोई खास प्रभाव भी शहर में दिखाई नहीं दिया। परिणाम यह हुआ कि लॉकडाउन के बाद भी मरीजों की संख्या में कोई खास कमी नहीं आई। उल्टा व्यापार को जरूर नुकसान पहुंचा। जुलाई माह में 11 दिन का लॉकडाउन पूरी तरह निष्प्रभावी साबित हुआ। सख्ती नहीं होने के कारण लोग बेरोकटोक घूमते दिखाई दिऐ। इसलिए जुलाई माह में 2022 पॉजिटिव मरीज मिले।

व्यापार को नुकसान, कालाबाजारी बढ़ीः लॉकडाउन से फायदा तो कुछ नहीं हुआ, लेकिन व्यापार को खासा नुकसान जरूर हुआ है। वहीं कालाबाजारी भी बढ़ गई। लोगों को जरूरी सामान भी भाव से अधिक कीमत पर खरीदना पड़ गईं।

समझे क्यों नहीं रुकी संक्रमण की रफ्तार

शारीरिक दूरीः लॉकडाउन में भी सड़कों पर भीड़ लगती रही थी। सरकारी दफ्तर भी खुले रहे थे। सुरक्षित शारीरिक दूरी के नियम का कहीं भी पालन नहीं हुआ। पुलिस या प्रशासनिक अफसर भी फील्ड से गायब दिखाई दिए, इसलिए लॉकडाउन पूरी तरह से बेअसर रहा था।

मास्कः सड़क पर निकलने वाले हर व्यक्ति को मास्क पहनना अनिवार्य किया गया है। इसके बाद भी लोग बिना मास्क के घूम रहे हैं। विशेष चेकिंग तो दूर चौराहों पर खड़े जवान भी किसी को रोक-टोक नहीं रहे हैं।

बाजारः शहर में बाजार खुल चुके हैं। प्रशासन-पुलिस के अफसरों द्वारा कोई चेकिंग नहीं की जा रही है। दुकानों पर कहीं भी सुरक्षित शारीरिक दूरी के नियम का पालन नहीं हो रहा है। अधिकांश लोग मास्क भी नहीं लगा रहे हैं। इससे बाजार से फैला संक्रमण घरों तक पहुंच गया। उधर कांटेक्ट ट्रेसिंग में भी गंभीरता नहीं बरती गई, जिससे मरीज तेजी से बढ़ते चले गए।

लॉकडाउन में पॉजिटिव केस की स्थिति

तारीख पॉजिटिव केस

15 जुलाई 121

16 जुलाई 162

17 जुलाई 51

18 जुलाई 60

19 जुलाई 68

20 जुलाई 49

लॉकडाउन के बाद की स्थिति

तारीख पॉजिटिव केस

21 जुलाई 43

22 जुलाई 64

23 जुलाई 59

24 जुलाई 31

25 जुलाई 28

26 जुलाई 59

27 जुलाई 51

28 जुलाई 80

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan