- 1424 निवेशकों का 10 करोड़ रुपये फंसा सक्षम डेयरी में

- निवेशकों ने चिपटफंड कंपनी सक्षम डेयरी में किया था निवेश, पालिसी पूरी होने के बाद भी नहीं दिया पैसा

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सक्षम डेयरी चिटफंड कंपनी में पैसा निवेश करने वाले निवेशकों के लिए अच्छी खबर है। विशेष सत्र न्यायालय ने आल इनवेस्टर वेल्फेयर एसोसिएशन आगरा के आवेदन को स्वीकार करते हुए निवेशकों का पैसा लौटाने का आदेश दिया है। निवेशकों को पैसा वापस देने के लिए प्रशासन चिटफंड कंपनी की संपत्ति को नीलाम कर सकता है। 1425 निवेशकों का दस करोड़ से अधिक रुपया सक्षम डेयरी चिटफंड कंपनी के पास फंसा है। यह काफी लंबे से फंसा है।

सक्षम डेयरी ने ग्वालियर अंचल सहित उत्तर प्रदेश में चिटफंड का कारोबार किया था। निवेशकों को पैसा डबल करने का भरोसा दिया। पालिसी पूरी होने के बाद जब निवेशकों ने कंपनी से पैसा मांगा तो वापस करने मना कर दिया। जिला प्रशासन के पास शिकायत पहुंचने के बाद वर्ष 2011 में चिटफंड कंपनियों पर कार्रवाई की गई थी। प्रशासन ने चिटफंड कंपनी की संपत्ति कुर्क कर ली थी। संपत्ति कुर्क होने के बाद प्रशासन ने निवेशकों का पैसा नहीं लौटाया। अपना वापस लेने के लिए निवेशक लंबे समय से प्रयासरत थे। इन्वेस्टर वेल्फेयर एसोसिएशन ने पैसे लेने के लिए कोर्ट में आवेदन पेश किया। एसोसिएशन की ओर से तर्क दिया कि कंपनी में 1425 लोगों ने 10 करोड़ से अधिक का निवेश किया है। कंपनी की संपत्ति व खातों को कुर्क किया है, लेकिन पैसा नहीं लौटाया जा रहा है। प्रशासन की ओर से अधिवक्ता गिरीश शर्मा ने वास्तुस्थित बताई। सक्षम डेयरी ने 1122 निवेशक की सूची कोर्ट में पेश की थी और 6 करोड़ बकाया था। कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनने के बाद संपत्ति नीलाम करने का आदेश दिया है। संपत्ति नीलामी से जो पैसा आए, उसे खाते में सुरक्षित रखा जाए। निवेशकों की संख्या को देखते हुए अनुपात में पैसा दिया जाए।

निवेशक को खुद लगाने हैं आवेदन

- जिला प्रशासन ने चिटफंड कंपनियों पर कार्रवाई कर चल, अचल, खाते कुर्क कर लिए, लेकिन निवेशकों को पैसा लौटाने की चिंता नहीं की। संपत्तियों को कुर्क किए हुए 10 साल हो गए है। परिवार डेयरी को छोड़ किसी दूसरी के कंपनी के निवेशकों का पैसा लौटाने की व्यवस्था नहीं की, जिसके चलते निवेशक ही कोर्ट में आवेदन लगाने लगें हैं।

- हाल ही में केएमजे के निवेशकों को पैसा लौटाने का आदेश दिया था।

- ग्वालियर में बड़ी संख्या में चिटफंड कंपनियां संचालत थी, जिन्होंने ग्वालियर चंबल संभाग सहित प्रदेश व दूसरे राज्यों में कारोबार किया था। फिर पैसे नहीं लौटाए। मुख्यालय ग्वालियर में होने की वजह से पैसा यहीं से लौटाया जाएगा।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close