ग्वालियर,(नईदुनिया प्रतिनिधि)। महाराजपुरा के चकरायपुरा में गोकशी करने वाले दो आरोपितों के घर प्रशासन ने तोड़ दिए। इन लोगों ने बिना अनुमति के मकान का निर्माण कराया था, इसकी जांच कराने के बाद गुरुवार को घरों पर बुलडोजर चला दिया गया। गोकशी के मामले में लगातार पुलिस और प्रशासन द्वारा सख्त कार्रवाई की जा रही है। एक दिन पहले ही आरोपितों के रिश्तेदार और साथियों के 17 शस्त्र लाइसेंस निरस्त किए थे। अभी तक इस मामले में सात लोग गिरफ्तार कर जेल भेजे जा चुके हैं। जिसमें चार लोगों पर गोकशी और तीन लोगों पर गोमांस बेचने का आरोप है। इन पर महाराजपुरा थाने में एफआइआर दर्ज की गई है।

सात दिन पहले महाराजपुरा स्थित चकरायपुरा गांव में रहने वाले पप्पू खान, सईद खान, मुरादी खान और बटरी खान पर गाय काटकर मांस पकाने का आरोप लगा था। यहां बजरंग दल सहित अन्य हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं ने हंगामा किया, इसके बाद आनन-फानन में पुलिस ने एफआइआर दर्ज की थी। चारों आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। दो आरोपितों ने गाय काटने की बात स्वीकार भी की थी। वहीं गोमांस बेचने के आरोप में तीन आरोपितों को बुधवार को गिरफ्तार कर जेल भेजा। इन लोगों पर पुलिस और प्रशासन सख्त कार्रवाई कर रहा है। इन आरोपितों के मकानों की जांच कराई गई। जांच में सामने आया कि मुरादी खान और सईद खान के मकान बिना अनुमति के बनाए गए थे। इसके बाद मकान पर बुलडोजर चलाने का निर्णय लिया गया। गुरुवार को एसडीएम अशोक सिंह चौहान, सीएसपी महाराजपुरा रवि भदौरिया, तहसीलदार कुलदीब दुबे नगर निगम के मदाखल अमले और भारी फोर्स के साथ यहां पहुंचे। यहां दोनों के मकान पर बुलडोजर चला दिया गया। इस कार्रवाई से पहले ही कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने बुधवार को 17 लोगों के शस्त्र लाइसेंस निरस्त कर दिए थे। यहां कार्रवाई के दौरान तनाव की स्थिति थी, लेकिन पुलिस बल मौजूद रहने के चलते यहां किसी तरह का विवाद नहीं हुआ।

मांस की जांच के लिए हैदराबाद भेजा सैंपल: पप्पू खान के घर जब पुलिस ने दबिश दी तो उसके घर से पका हुआ मांस बरामद हुआ था। मांस को जांच के लिए हैदराबाद स्थित लैब भेजा है। यहां लांच में स्पष्ट होगा कि यह मांस गाय का था या नहीं।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close