-जेसीबी के साथ अमला पहुंचा तो खुद ही तोड़ने लगे मकान

-पूरे मार्ग पर उठते रहे धूल के गुबार, मलबे के लगे ढेर

Demolition completed on Seva nagar Road: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। किला गेट से लेकर सेवा नगर तक सड़क चौड़ीकरण के लिए मंगलवार को मकानों की तोड़फोड़ की कार्रवाई की गई। इस दौरान तीन संपत्तियों को तोड़ने पर विवाद की स्थिति बन गई। एसडीएम प्रदीप तोमर व अपर आयुक्त अतेंद्र सिंह गुर्जर ने इन संपत्तियों के मालिकों को दो दिन की मोहलत दी है, ताकि वे स्वयं ही अपने मकानों को तोड़ लें। निगम अमले ने मंगलवार को सड़क के दोनों तरफ 59 दुकानें, नौ घर, 38 चबूतरे और दो धर्मशालाओं को तोड़ने की कार्रवाई की। इसके अलावा किला गेट से हजीरा के बीच भी एक मकान को तोड़ा गया है। निगम के अमले को देखकर अंतिम समय पर लोग स्वयं ही अपने मकानों को तोड़ने लगे।

निगम के अमले ने इस बार किला गेट से तोड़फोड़ की शुरूआत की। इस दौरान सड़क के दोनों ओर खाली पड़े मकानों को तोड़ा गया। यहां जगदीश जैन की बर्तन की दुकान है और वह दुकान खोलकर बैठे हुए थे। तोड़फोड़ की कार्रवाई के दौरान जब उनके बगल का मकान तोड़ा गया, तो वे अधिकारियों के पास पहुंचे और दो दिन की मोहलत देने के लिए कहा। अमले ने जेसीबी से दुकान की दीवार तोड़ने के बाद दो दिन का समय दे दिया। इसके बाद काशीराम धर्मशाला के पिलर तोड़ने की कार्रवाई की गई। इसी दौरान धर्मशाला प्रबंधन से जुड़े प्रवीण बांदिल व अन्य लोगों ने कार्रवाई का विरोध किया। विवाद के दौरान बांदिल परिवार के एक सदस्य ने मलबे में से पत्थर उठाकर फेंकना चाहा, लेकिन पुलिस ने उसे पकड़ लिया। प्रवीण बांदिल का कहना था कि धर्मशाला को वे स्वयं तोड़ लेंगे। इसके लिए उन्हें नए पिलर बनाने का समय दिया जाए। इस पर एसडीएम ने उन्हें समय देकर स्वयं ही तोड़फोड़ करने के निर्देश दिए। इसके बाद हरीश गुप्ता के मकान पर कार्रवाई की बारी आई। यहां परिवार की महिलाएं रोने लगीं। महिला पुलिस बल को बुलाकर महिलाओं को घर से बाहर निकाला गया। इसी दौरान मीना गुप्ता ने पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया। प्रशासन ने इस मकान को भी दो दिन की मोहलत दे दी है। इसके बाद सड़क के दोनों ओर मकानों पर लगाए गए निशानों के मुताबिक तोड़फोड़ की गई। निगम अमले ने साढ़े पांच घंटे तक कार्रवाई कर किला गेट से सेवा नगर के बीच बाईं तरफ 20 दुकानों, आठ घर, 23 चबूतरों व एक धर्मशाला और दाईं तरफ 39 दुकानें, एक घर, 15 चबूतरे और जैन मंदिर तीर्थ धर्मशाला की दीवार को तोड़ दिया।

-मंदिरों को कराएंगे विस्थापित-

कार्रवाई के दौरान इस मार्ग पर पड़ने वाले छह मंदिरों को छोड़ दिया गया है। इन मंदिरों में लगीं प्रतिमाओं को विधिवत रूप से प्रशासन द्वारा दूसरे स्थानों पर स्थापित कराया जाएगा। इसके बाद मंदिरों को तोड़ने की कार्रवाई की जाएगी। मंदिरों को छोड़ने पर कई लोग इसी आधार पर अपने मकानों को न तोड़ने के लिए मोहलत मांगते नजर आए, लेकिन अधिकतर स्थानों पर कार्रवाई कर दी गई।

-दो दिसंबर को शादी, तोड़ दिया मकान-

लोहा मंडी निवासी रघुवीर सिंह के घर में बेटी की शादी दो दिसंबर को होनी है। उनके मकान पर साढ़े चार फीट का निशान लगा हुआ था, लेकिन उन्होंने स्वयं मकान नहीं तोड़ा था। जब जेसीबी मकान तोड़ने के लिए पहुंची, तो रघुवीर सिंह ने समय मांगा। वहां तैनात पुलिस ने रघुवीर सिंह को हटाया, तो घर के अन्य सदस्य बाहर आने के लिए तैयार नहीं हुए। ऐसे में पुलिस बल बुलाकर परिवार के सदस्यों को बाहर निकाला गया। इसके बाद जेसीबी से मकान तोड़ दिया गया।

-पुराने मकानों में धमक से परेशानी-

इस मार्ग पर अधिकतर मकान कई वर्ष पुराने हैं। यही कारण है कि जेसीबी से जब मकानों को तोड़ा जा रहा था, वे भरभराकर गिर रहे थे। कुछ लोगों ने पहले से ही निर्धारित माप में अपने मकान पीछे कर लिए थे लेकिन जब जेसीबी से तोड़फोड़ शुरू की गई, तो पास के अन्य मकानों में धमक आने लगी। इससे लोग परेशान होते नजर आए। उन्होंने निगम अमले से शिकायत भी की कि कार्रवाई से उनके मकानों को नुकसान पहुंच रहा है।

-झलकियां-

-तोड़फोड़ की कार्रवाई को देखते हुए सेवा नगर सामुदायिक भवन से लेकर किला गेट के बीच रोड को बंद कर दिया गया। इसके चलते वाहन चालक परेशान होते नजर आए।

-कार्रवाई को देखने के सैकड़ों की संख्या में लोग गलियों और सड़क पर इकट्ठे हो गए। इन्हें बार-बार पुलिस बल तितर-बितर कर रहा था।

-कार्रवाई के दौरान कई लोग प्रशासन पर पक्षपात का आरोप लगाते नजर आए।

-पूरे इलाके में धूल के गुबार उठ रहे थे। कार्रवाई खत्म होने पर सड़क पर मलबे के ढेर लग गए।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close