Dengue in Gwalior: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। डेंगू महामारी की तरह तेजी से फैल रहा है। जिसके सबसे आसान शिकार बच्चे और शिशु बन रहे हैं। डेंगू इन बच्चों पर अपना प्रभाव भी दिखा रहा है। डेंगू के कारण बच्चों के शरीर के खून से प्लेटलेट्स भी तेजी से गिर रही हैं। राहत की बात यह है कि बच्चों को बाहर से प्लेटलेट्स चढ़वाने की कम ही आवश्यकता पड़ रही है। बच्चे पांच दिन में डेंगू को हराकर स्वस्थ हो रहे हैं। जरूरत है तो उनकी बेहतर देखभाल और डाक्टर के परामर्श की। बुधवार को कमलाराजा अस्पताल से आठ माह का शिशु डेंगू को मात देकर अपने घर शिवपुरी के लिए रवाना हो गया। कमलाराजा अस्पताल के शिशु रोग विशेषज्ञ डा.घनश्यामदास का कहना है कि अस्पताल में डेंगू पीड़ित बच्चों की संख्या करीब आधा सैकड़ा तक पहुंच गई है। इसमें पांच दिन पहले शिवपुरी का आठ माह का शिशु भर्ती हुआ था। जिसकी प्लेटलेट्स 20 हजार तक रह गई थीं, लेकिन बेहतर देखभाल और इलाज के चलते वह पूरी तरह से स्वस्थ हुआ और उसे डिस्चार्ज कर दिया गया। राहत की बात यह है कि अभी तक एक भी बच्चे को बाहर से प्लेटलेट्स चढ़ाने की आवश्यकता नहीं पड़ी।

इन बच्चाें ने भी दी डेंगू काे मातः

केस-1ः निजी अस्पताल में हजीरा का 2 साल का शिवम डेंगू का इलाज पिछले चार दिन से ले रहा था। उसकी प्लेटलेट्स भी तेजी से घटीं और 25 हजार तक जा पहुंचीं, लेकिन बिना प्लेटलेट्स चढ़ाए बच्चे के स्वास्थ्य में बेहतर इलाज व देखभाल से सुधार हुआ और बुधवार को डिस्चार्ज कर घर भी पहुंच गया।

केस-2: भिंड से आई डेढ़ साल की बच्ची कृतिका का इलाज भी एक निजी अस्पताल में किया जा रहा था। डा.मुकेश तोमर का कहना है कि बच्चों में प्लेटलेट्स चढ़ाने की आवश्यकता अभी तक नहीं पड़ी। कृतिका को तीन दिन भर्ती रखा और अब वह स्वस्थ है। उसे गुरुवार को डिस्चार्ज कर दिया जाएगा।

डाक्टर से परामर्श जरूर लें, और डेंगू की कराएं जांचः डा.घनश्यामदास के अनुसार यदि किसी बच्चे को बुखार आए तो डाक्टर से परामर्श लें और डेंगू की जांच कराएं। डेंगू निकलता है और बच्चे को बुखार के अलावा कोई अन्य लक्षण नहीं है तो उसका घर पर इलाज ले सकते हैं, लेकिन घर पर उसके खाने,पीने में तरल पदार्थ समय-समय पर देते रहें। यदि बच्चे को उल्टी, दस्त, चकते, पेट व सिर दर्द की शिकायत है तो डाक्टर के परामर्श पर भर्ती करें। तीन दिन प्लेटलेट्स घट सकती हैं, लेकिन बेहतर इलाज व देखभाल से प्लेटलेट्स बढ़ने लगते हैं।

927 पर पहुंचा डेंगू का आंकड़ाः डेंगू मरीज अब शहर के हर गली-मोहल्लों से निकल रहे हैं। बुधवार को जिला अस्पताल से आई जांच रिपोर्ट में 11 डेंगू मरीज मिले हैं। डेंगू के 927 मरीज अब तक हो चुके हैं। पिछले 50 दिन में 911 मरीज मिल गए हैं। औसतन एक दिन में 18 मरीज मिल रहे हैं। इधर सरकारी और निजी अस्पताल मौसमी बीमारी व डेंगू मरीजों से भर गए हैं। आलम यह है कि जयारोग्य अस्पताल के ब्लड बैंक से लेकर निजी लैब पर ब्लड सेपरेशन कर प्लेटलेट्स निकालने वाली जंबो किट की कमी चल रही है। इस कारण मरीज व उनके अटेंडेंट परेशान हैं। डेंगू के कारण मरीजों के शरीर के ब्लड से तेजी से प्लेटलेट्स घटने की शिकायत आ रही है।

मेडिकल कालेज से नहीं हुई रिपोर्ट जारी: दाे दिन के लगातार सरकारी अवकाश के चलते बुधवार को डेंगू मरीजों के सैंपल की जांच जीआर मेडिकल कालेज की लैब में नहीं की गई। इस कारण बुधवार को डेंगू रिपोर्ट भी जारी नहीं हुई, जबकि एक दिन पहले मंगलवार को 167 मरीज पाए गए थे। जिसमें 95 फीसद बच्चे डेंगू के शिकार मिले थे। 167 मरीज में 100 मरीज ग्वालियर के थे।

किस वर्ष कितने मिले मरीजः

वर्ष डेंगू

2015 466

2016 707

2017 465

2018 1202

2019 370

2020 16

2021 927

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local