ग्वालियर (नईदुनिया रिपोर्टर)। लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षा संस्थान और अन्य शिक्षण संस्थानों के लिए नई शिक्षा नीति ने आगे बढ़ने की संभावनाओं के द्वार खोल दिए हैं। क्योंकि शारीरिक शिक्षा और खेलकूद को अब मुख्य विषय के रूप में मान्यता मिली है, यह प्राथमिक कक्षाओं से ही बच्चों को पढ़ाया जाएगा। यह कहना था एलएनआइपीई के कुलपति प्रो. दिलीप कुमार डुरेहा का। वे बुधवार को हुई बैठक में शिक्षक व कर्मचारियों को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि शारीरिक शिक्षा से जुड़े विशेषज्ञों द्वारा वर्षों से की जा रही कोशिश का नतीजा सामने आ चुका है। उन्होंने कहा कि संस्थान के परीक्षा नियंता डॉ. जीडी घई ने एनसीईआरटी के लिए शारीरिक शिक्षा का नया पाठ्यक्रम बनाने पर काम किया। इस दौरान उन्होंने स्थानीय भाषा में पढ़ाई कराने और स्टूडेंट्स के बीच में कोर्स छोड़ने पर उन्हें सर्टिफिकेट देने की व्यवस्था बनाने पर जोर दिया। इस मौके पर कुलसचिव प्रो. एमके सिंह, प्रो. एस मुखर्जी, प्रो. एलएन सरकार, डॉ. विवेक पांडेय, डॉ. विल्फ्रेड वाज, डॉ. जोसेफ सिंह, डॉ. केके साहू, डॉ. आशीष फुलकर, डॉ. इंदु बोरा और डॉ. यतेंद्र सिंह उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020