ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। बे मौसम बारिश हो रही है। यह बारिश में संक्रमण फैलने का खतरा रहता है। इसलिए बारिश के पानी में भीगने से भी बचें और बारिश का पानी घर के आसपास संग्रह भी न होने दें। क्योंकि पानी का भराव होने से मच्छर पनपते हैं। साफ पानी में डेंगू का लार्वा जो आपको बीमार कर सकता है। बारिश के कारण मौसम में ठंडक आ चुकी है इस कारण से बारिश के पानी का भराव होने पर मच्छर पनप सकते हैं। जो डेंगू व मलेरिया रोग फैला सकते हैं। डेंगू, मलेरिया, टायफॉइड और स्क्रब टाइफस के ज्यादातर लक्षण एक जैसे होते हैं। पूरे देश के डाक्टर्स लोगों को सतर्क कर रहे हैं। कोरोना के केस कुछ कंट्रोल में हैं लेकिन मच्छरों से फैलने वाली कई बीमारियों तेजी से बढ़ रही हैं। डॉक्टर्स के मुताबिक, डेंगू, मलेरिया, स्क्रब टाइफस और टायफॉइड के लक्षण ओवरलैप हो जाते हैं। ऐसे में बीमारी का सही पता लगना बेहद जरूरी है।

बुखार के साथ शरीर में लाल रंग के चकत्ते होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं। ये डेंगू हो सकता है। सबसे पहले मच्छरों से फैलने वाली इन बीमारियों से बचाव करने की जरूरत है। सफाई रखें, आसपास इकट्ठे पानी में मच्छर न पनपने दें, फुल आस्तीन के कपड़े पहनकर रहें, मच्छरदानी लगाकर सोएं या रिपेलेंट लगाएं। जैसे भी संभव हो मच्छरों से बचाव करें। डेंगू वायरल बीमारी है। 7 से 14 दिन में अपनेआप ठीक हो जाती है। हालांकि इसमें यह तेजी से सेहत गिराती है और घातक हो सकती है। डेंगू के सामान्य लक्षण हैं, तेज बुखार, सिरदर्द, आंखों के पीछे दर्द, शरीर में दर्द, पेट दर्द और उल्टियां। उन्होंने बताया कि डेंगू में खुद से दवाइयां लेना खतरनाक हो सकता है। इसमें डॉक्टर की सलाह पर पहले जांच करवाना बेहद जरूरी है।डेंगू के लक्षणों में बेहद तेज बुखार, तेज सिरदर्द, जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द शामिल हैं और इसमें जी मचलना, पेट दर्द और दस्त जैसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल लक्षण भी हो सकते हैं। चार डेंगू वायरस सीरोटाइप हैं, जिसका अर्थ है कि एक व्यक्ति वायरस से चार बार संक्रमित हो सकता है. जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, रोगी सांस लेने में तकलीफ, नाक और मसूड़ों से खून बहने और रक्तचाप में तेजी से गिरावट के कारण सदमे से पीड़ित हो सकते हैं। मलेरिया के लक्षणों में बुखार, सिरदर्द और ठंड लगना भी शामिल है। अगर 24 घंटे के भीतर इलाज नहीं किया जाता है, तो यह गंभीर बीमारी में बदल सकता है और मृत्यु का कारण बन सकता है। गंभीर मलेरिया से पीड़ित बच्चे गंभीर एनीमिया, रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस या तनाव, मस्तिष्क संबंधी मलेरिया से पीड़ित हो सकते हैं।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close