विजय सिंह राठाैर, ग्वालियर नईदुनिया। बीते साल 25 दिसंबर 2019 को ग्वालियर व्यापार मेले का औपचारिक शुभारंभ राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा कर दिया गया था, मगर इस साल मेले के लिए हर प्रकार के समीकरण बदल चुके हैं। कोरोना संकट को देखते हुए अभी तक मेले की झंडी नहीं उठ सकी है, और न हीं मेले की 1% भी अभी तक तैयारी हुई है। जबकि बीते साल इन दिनों तक मेले में झूले लगना, पार्किंग बनना, सफाई, शौंचालय आदि बनना प्रारंभ हो गए थे, लेकिन इस साल इन सभी कामों के लिए टेंडर भी नहीं हुए हैं। वहीं व्यापारी वर्ग मेला न लगने की आशंका के चलते खासा परेशान है, क्योंकि ऐतिहासिक व्यापार मेला ग्वालियर-चंबल के व्यापार के लिए खासा मायने रखता है। पिछले साल मेले में ऑटोमोबाइल सेक्टर को आरटीओ से 50% छूट प्राप्त हुई थी। ऐसे में मेले में 1100 करोड़ से अधिक का कारोबार हुआ था। मेले में शारीरिक दूरी के नियम का पालन हो पाना लगभग असंभव है, ऐसे में कोरोना को ध्यान में रखते हुए मेले का आयोजन भी मुश्किल ही लग रहा है।

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर समेत अन्य जनप्रतिनिधियों द्वारा भी ऐसे ही संकेत दिए गए हैं। शुक्रवार को श्रीमंत माधवराव सिंधिया ग्वालियर व्यापार मेला व्यापारी संघ के प्रतिनिधि मंडल द्वारा ऊर्जा मंत्री प्रधुम्न सिंह तोमर को मेला आयोजित करने के संबंध में ज्ञापन सौंपा गया। राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम यह ज्ञापन दिया गया था, जिसमें कोरोना संबंधी सभी नियमों का पालन करते हुए मेला आयोजित कराने की मांग की गई थी। संघ के अध्यक्ष महेंद्र भदकारिया ने बताया कि मंत्री तोमर ने कोरोना को ध्यान में रखते हुए 1 फरवरी से मेला शुरू कराने का आश्वासन दिया है, मगर व्यापारी चाहते हैं कि 10 जनवरी तक मेला शुरू हो जाए। गौरतलब है कि यह व्यापार मेला 114 साल पहले सिंधिया परिवार ने शुरू किया था। घोड़े, हाथी, गाय, भैंस समेत अन्य मवेशी व पशुओं का यह मेला होता था। बाद में समय के अनुसार इसमें परिवर्तन होता चला गया।

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस