Energy Minister News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के टीकमगढ़ में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के तोप संबंधी बयान से अंचल की राजनीति गरमा गई है। हालांकि सिंधिया भी कमल नाथ के बयान पर ट‌्वीट जवाब दे चुके हैं। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने मीडिया से चर्चा करते हुये पूर्व मुख्यमंत्री के बयान पलटवार किया है।

उनका कहना है कि कमलनाथ जी कह रहे हैं कि सिंधिया जी कोई तोप नही है। लेकिन उन्हें बताना चाहूंगा की सिंधिया एक बहुत बड़ी तोप ही थे। जब 2018 में सरकार बनी तब ग्वालियर चंबल संभाग में वह तोप ही चली 2020 में जब कमलनाथ सरकार ने जनता के साथ अन्याय और अत्याचार किया तब भी वही तोप चली। उसी तोप के चलने पर कमलनाथ सरकार धराशायी हुई हैं। 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेसी उसी तोप से भयभीत हैं। जब से यह बयान सामने आया है राजनीतिक हलचल बढ़ गई है।

नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने भी लगाए आरोप

पूर्व गृहमंत्री व नेता प्रतिपक्ष डा गोविंद सिंह ने शनिवार की सुबह अपने निवास पर मीडिया से चर्चा करते हुये आरोप लगाया कि भाजपा शासनकाल में आपतकाल जैसी स्थिति निर्मित हो गई है। कांग्रेसियों के बोलने पर उनके खिलाफ गंभीर धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज कर उनके साथ थानों में मारपीट की जा रही है। नेता प्रतिपक्ष ने दतिया जिले के चार कांग्रेसियों के पुलिस द्वारा मारपीट किये जाने की फोटो भी जारी किये। न्यायिक हिरासत में कांग्रेसियों के साथ अत्याचार किया जा रहा है। डा गोविंद सिंह ने कहा कि पूर्व मंत्री राजा पटेरिया को न्यायिक हिरासत में मानसिक रूप से यातनाएं दी गईं। ठिठुरनभरी ठंड में उन्हें जेल फटा कंबल दिया गया। ऐसी बैरक में रखा गया, जहां रोशन भी नहीं था। कांग्रेस इन अत्याचारों के खिलाफ सड़क पर क्यो नहीं उतर रही, इस सवाल पर कहना था कि राजा पटेरिया के मामले धरना- प्रदर्शन किया जा रहा है। संत धीरेंद्र शास्त्री के सवाल पर उनका कहना था कि मैं किसी धीरेंद्र शास्त्री को नहीं जानता। ऐसी व्यक्ति के संबंध कुछ बोलना भी नहीं चाहता हूं।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close