बलबीर सिंह,(ग्वालियर नईदुनिया)। जीवाजी विश्वविद्यालय को सभी गाइडों ने खाली सीटों की जानकारी नहीं दी है। इस कारण सितंबर में प्रस्तावित प्रवेश परीक्षा संभव नहीं हो सकी है, लेकिन जेयू के पास 900 खाली सीटों की जानकारी है। इन सीटों को भरने के लिए अक्टूबर में सूचना जारी हो सकती है और प्रवेश परीक्षा हो सकती है। इस मामले को प्रवेश समिति को भेज दिया है। अब इस पर प्रवेश समिति ही फैसला लेगी।

जीवाजी विश्वविद्यालय से दिसंबर 2021 तक 119 पीएचडी अवार्ड हुए हैं। अगस्त 2022 तक 260 पीएचडी अवार्ड हो चुकी हैं। इन विद्यार्थियों ने अपने शोध पत्र जमा कर दिए थे, जिसके चलते पीएचडी अवार्ड हो गए। इसके चलते जेयू ने प्रवेश परीक्षा की तैयार की थी। सबसे पहले गाइडों से ही जानकारी मांगी थी। जिससे नए शोधार्थी आ सकें। जेयू से पीएचडी करने में 42 हजार रुपये का खर्च आता है। इस वजह से विद्यार्थियों की पहली पसंद भी है। यदि विद्यार्थी चार साल में अपना शोध पत्र जमा कर देता है तो उसकी पीएचडी पूरी हो जाती है। लगभग 42 विषयों में पीएचडी होती है। 72 गाइडों ने 121 सीटें खाली बताई हैं। जबकि जेयू के पास 650 गाइड हैं। प्रवेश समिति से फैसला होने तक प्रवेश परीक्षा के लिए इंतजार करना होगा। अक्टूबर में पीएचडी पर कुछ फैसला हो सकता है। 900 सीट के लिए प्रवेश होगा। अलग-अलग विषय की सीट हैं। जेयू ने खुद के पास मौजूद खाली सीटों के आधार पर परीक्षा कराने जा रही है।

ऐसे करा सकते हैं गाइड पीएचडीः

-प्रोफेसर- 8

-एसोसिएट प्रोफेसर-6

-असिस्टेंट प्रोफेसर-4

-वर्तमान में 2 हजार से अधिक विद्यार्थी शोध कर रहे हैं

कुलपति ने किया संस्थानों का निरीक्षणः जीवाजी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अविनाश तिवारी ने नैक निरीक्षण को लेकर भौतिकी, रसायन शास्त्र व गणित विभाग का निरीक्षण किया। इन विभागों में जो कमियां मिलीं, उन्हें यंत्री विश्वरंजन गुप्ता को दूर करने के निर्देश भी दिए। इससे पहले कुलपति ने तीनाें अध्ययनशालाओें के विभागाध्यक्षों और प्रोफेसरों की बैठक ली। बैठक में पूछा गया कि नैक को लेकर क्या तैयारी है, अपने-अपने विभाग को लेकर कैसे प्रजेंटेशन करेंगे। विभागाध्यक्षों ने बताया कि रिसर्च, थीसिस, छात्रों द्वारा लाए गए प्रोजेक्ट व अध्ययनशाला में हुए अच्छे कार्यों की जानकारी प्रस्तुत की जाएगी। ज्ञात है कि विवि ने निरीक्षण के लिए नैक को सेल्फ स्टडी रिपोर्ट भेज दी है। साथ ही आपत्तियों का निराकरण किया जा रहा है। यह कार्य खत्म होने के बाद नैक के द्वारा जल्द ही निरीक्षण की तारीख आ जाएगी। बैठक में प्रो. डीसी गुप्ता, प्रो. यूपी वर्मा, प्रो. एके श्रीवास्तव, प्रो. संजय श्रीवास्तव, प्रो. राधा तोमर, प्रो. एसके श्रीवास्तव, प्रो. ओपी मिश्रा, प्रो. निमिशा जादौन उपस्थित थे।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close