ग्वालियर,(नईदुनिया प्रतिनिधि)। डेढ़ साल से नकली सीमेंट फैक्ट्री संचालित हो रही थी। जिसकी भनक लगते ही पुलिस ने छापेमार कार्रवाई करते हुए दो सौ बोरी नकली सीमेंट जब्त की और फैक्ट्री के दो मैनेजरों को गिरफ्तार कर लिया। हालांकि नकली सीमेंट का कारोबार करने वाले मास्टर माइंड पुलिस की पकड़ से दूर हैं। नकली सीमेंट पकड़े जाने के बाद अल्ट्राटेक सीमेंट के मैनेजर ने मुरार थाना में शिकायत दर्ज कराई।

महाराजपुरा थाना के बार्डर पर स्थित जहांगीरपुर में अल्ट्राटेक सीमेंट की नकली फैक्ट्री पिछले डेढ़ साल से संचालित हो रही थी। इस फैक्ट्री का संचालन पदमपुर खेरिया के रहने वाले अशोक और संजय लोधी कर रहे थे। इसकी जानकारी बीते रोज मुरार थाना पुलिस और क्राइम ब्रांच को लगी। मुरार पुलिस व क्राइम ब्रांच ने सोमवार की सुबह संयुक्त रुप से छापेमार कार्रवाई की। जिस समय फैक्ट्री पर कार्रवाई की गई, उस वक्त फैक्ट्री के मैनेजर गोलू राठौर और अंकित नरवरिया मौजूद थे। यह लाेग सीमेंट की दो सौ बोरियों को मार्केट में सप्लाई देने के लिए भेजने की तैयारी कर रहे थे। इसी दाैरान पुलिस ने दबिश देकर दोनों को गिरफ्तार कर लिया और नकली सीमेंट बरामद कर ली। फैक्ट्री के अंदर नकली सीमेंट तैयार कर उसे अल्ट्राटेक सीमेंट की बोरियों में भरकर असली सीमेंट के भाव में बेच रहे थे।

सीमेंट में राख मिलाने की आशंकाः नकली सीमेंट में राख मिलाकर बेची जा रही थी, लेकिन इस बात की पुष्टि पुलिस के कब्जे में बैठे मैनेजरों ने नहीं की। पुलिस पूछताछ में हर बार मैनेजर ने एक ही रटा रटाया जवाब दिया कि उनका काम बोरियों को गिनकर बाजार में बेचने का काम था। सीमेंट में क्या मिलाया जा रहा था,कितने में बोरी बेची जा रही थी, इसकी जानकारी उन्हे नही हैं। हालांकि पुलिस का कहना है कि सीमेंट में राख भी मिलाई जा सकती है, लेकिन यह जांच के बाद ही पता चलेगा कि नकली सीमेंट बनाने के लिए क्या-क्या मिलाया गया होगा।

वर्जन-

नकली सीमेंट की फैक्ट्री पकड़ी है। जिसमें दो सौ नकली सीमेंट की बोरियां जब्त की तथा फैक्ट्री के मैनेजर को हिरासत में लिया है। जिनसे पूछताछ की जा रही है। फैक्ट्री के संचालक फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है।

शैलेन्द्र भार्गव , थाना प्रभारी मुरार

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close