ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोविड संक्रमण का डर अब बसों पर भी दिखने लगा है। बसों में यात्रियों की संख्या 50 फीसद तक घट गई है। जिन बसों में सीट के लिए मारामारी करनी पड़ती थी, उनमें आसानी से सीटें मिल रही हैं। संक्रांति के एक दिन पहले गुरुवार को भी बसों में ज्यादा भीड़ देखने को नहीं मिली। आने वाले दिनों में इस संख्या में और गिरावट दर्ज की जा सकती है।

कोरोना ने ट्रांसपोर्ट कारोबार को ज्यादा प्रभावित किया था। पहली व दूसरी लहर के दौरान बसें बंद रहीं। जब बसों को चलने की छूट मिली तो यात्री नहीं मिल रहे थे। शहर में कोविड-19 का संक्रमण कम होने के बाद ही यात्रियों ने बसों का रुख किया था। बसें 100 फीसद क्षमता में यात्री लेकर चलने लगी थीं। यह व्यवसाय धीरे-धीरे पटरी पर लौट रहा था, लेकिन तीसरी लहर ने फिर से झटका दे दिया है। लोग बसों से सफर करने में परहेज करने लगे हैं। पिछले दस दिनों में यात्रियों की संख्या में गिरावट आई है। ग्वालियर से संभागीय रूटों पर 500 से ज्यादा बसें दौड़ रही हैं। बस आपरेटर पदम गुप्ता कहना है संक्रांति पर बसों में जगह नहीं मिलती थी, लेकिन बसों में यात्री नहीं हैं। 50 फीसद यात्री ही मिल रहे हैं।

रद रही हैदराबाद-मुंबई फ्लाइट, आज भी रद रहेगी

खराब मौसम के कारण लगातार हवाई सेवाएं प्रभावित हैं। शुक्रवार को भी मुंबई और हैदराबाद की हवाई सेवा प्रभावित रहेगी, जबकि गुरुवार को भी यह फ्लाइट नहीं आई। गुरुवार को हैदराबाद सहित कुल पांच शहरों की फ्लाइट बाधित रही। अभी फिलहाल ऐसी ही स्थिति रहने की आशंका जताई जा रही है। इसी कारण हवाई सेवा का उपयोग करने वाले यात्री भी दूसरे विकल्प ज्यादा तलाश रहे हैं।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local