- रेलवे एक घंटे से अधिक देर से चलने वाली ट्रेन की सूचना एसएमएस के माध्यम से देगी

Gwalior Railway News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दिसंबर के तीसरे सप्ताह में उत्तर भारत में कोहरा दस्तक दे सकता है। कोहरे के कारण दिल्ली की ओर से आने वाली ट्रेनें ग्वालियर घंटो देर से आएंगी। यदि आप ट्रेन के आगमन व लेट-लतीफी की मोबाइल पर सटीक जानकारी चाहते हैं तो आरक्षित टिकट का फार्म भरते वक्त अपना मोबाइल नंबर लिखें। रेलवे एसएमएस के माध्यम से ट्रेन सटीक जानकारी भेजेगी। एक घंटे से अधिक देर से ट्रेन आ रही है तो मोबाइल पर मैसेज आ जाएगा। आपको स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार नहीं करना पड़ेगा।

15 दिसंबर से 31 जनवरी के बीच उत्तर भारत में घना कोहरा छाता है। इससे ट्रेन की गति थम जाती है। रात की ट्रेनों पर ज्यादा असर पड़ता है, क्योंकि सिग्नल नजर नहीं आने पर ट्रेन को धीमी गति से चलाया जाता है। इससे ट्रेन लेट होती जाती है। रेलवे पूछताछ नहीं है, उस पर ट्रेन की जानकारी लेने में दिक्कत आती है। या फिर ट्रेन इनक्वारी सिस्टम पर आनलाइन स्टेट्स देख सकते हैं। मोबाइल पर हर यात्री आसानी से नहीं देख सकता है। मैजेस पर ट्रेन की सटीक जानकारी के लिए टिकट बनवाते वक्त नंबर दर्ज कराएं। सर्वर में नंबर फीड होने पर टिकट के कन्फर्म होने का स्टेट्स व ट्रेन के आने के समय की जानकारी मिलेगी।

यह आती है परेशानी

- कोहरे के कारण ट्रेन री शेड्यूल भी हो जाती है। साथ ही रद भी कर दिया जाता है।

- ग्वालियर स्टेशन पर दिल्ली की ओर से अाने वाली ट्रेन तीन से छह घंटे देर से आती हैं। हर ट्रेन की गति बिगड़ जाती है।

- सही जानकारी मिलने पर समय पर स्टेशन पहुंचे। स्टेशन पर ठंड से नहीं ठिठुरना पड़ेगा।

- ट्रेनों के लेट होने से स्टेशन पर भीड़ भी रहती है। बैठने की जगह भी नहीं मिल पाती है। फर्स पर बैठना पड़ता है।

झांसी के लिए लेना पड़ रहा दूसरी ट्रेनों का सहारा

ताज एक्सप्रेस 90 दिनों तक झांसी नहीं जाएगी। ग्वालियर-झांसी के बीच सफर करने वाले यात्रियों की संख्या अधिक है। ये ताज एक्सप्रेस से डबरा, दतिया, झांसी जाते थे, लेकिन ताज एक्सप्रेस झांसी जाना बंद हो गई है, जिससे यात्रियों को परेशानी हो रही है। दूसरी ट्रेनों से सफर करना पड़ रहा है। उन्हें सामान्य डिब्बे में जगह नहीं मिल रही है।

- बरोनी मेल भी अलग-अलग तारीखों में रद की गई है। बरोनी मेल से भी ग्वालियर से झांसी के बीच लोग सफर करते थे। ट्रेन ग्वालियर से चलती थी, इससे सामान्य डिब्बे में बैठने की जगह मिल जाती थी।

- इन ट्रेनों का संचालन कोहरे के कारण प्रभावित हुआ है। इस वजह रेलवे ने फेरे कम किए हैं। कोहरे के कारण लेट आती थी, जिससे ट्रेनों में मेंटेनेंस नहीं होता था और री शेड्यूल करनी पड़ती थी।

इनका कहना है

- यात्री आरक्षण फार्म भरते वक्त अपना नंबर जरूर दर्ज करें। जिससे ट्रेन के संचालन की सटीक जानकारी मिल सके। यात्रियों को ट्रेन के आगमन की जानकारी मोबाइल पर भेजी जाएगी।

मनोज कुमार सिंह, पीआरओ झांसी मंडल

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close