अमित मिश्रा,(ग्वालियर नईदुनिया)। 10 साल से फरार हत्या के आराेपित को कड़ी मशक्कत के बाद क्राइम ब्रांच की टीम ने पकड़ा था, लेकिन बहोड़ापुर पुलिस की लापरवाही से वो भाग गया। अब धीरे-धीरे बहाेड़ापुर पुलिस की और भी चूक सामने आ रही हैं। इस मामले में 3 दिन बाद खुलासा हुआ है कि हत्या आराेपित की सुरक्षा में ड्यूटी तो चार पुलिसकर्मियों की लगाई थी, लेकिन एक किले पर ड्यूटी करता रहा और एक ग्वालियर में था ही नहीं। जब जांच हुई तो यह कहानी सामने आई। बहोड़ापुर थाना प्रभारी को भी इसकी जानकारी थी, लेकिन इसके बाद भी दो ही पुलिसकर्मी हत्या के आराेपित को स्कूल तक ले गए। अब इस मामले में एक पुलिसकर्मी पर और कार्रवाई हो सकती है। अभी तक थाना प्रभारी सहित चार लोगों पर कार्रवाई हो चुकी है।

2012 में छात्र प्रांकुल शर्मा का अपहरण कर उसकी हत्या कर दी गई थी। इस मामले में दो आरोपित थे, जिसमें से आठ गिरफ्तार हो चुके थे, जबकि मुकेश परिहार फरार चल रहा था। मुकेश परिहार की गिरफ्तारी पर 10000 रुपये का इनाम भी घोषित किया गया था, लेकिन उसका कोई सुराग नहीं लगा था। क्योंकि उसने खुद को मृत घोषित कर लिया था। वह दिल्ली में नाम बदलकर रह रहा था। एसएसपी अमित सांघी ने क्राइम ब्रांच को टास्क दिया था कि जितने भी लंबे समय से फरार आरोपित हैं, उनकी गिरफ्तारी जल्द की जाए। क्राइम ब्रांच की टीम ने करीब 1 महीने तक मेहनत की और आखिर मुकेश परिहार को दबोच लिया। क्राइम ब्रांच ने उसे पकड़कर बहोड़ापुर पुलिस के सुपुर्द कर दिया, लेकिन बहोड़ापुर पुलिस उसे 1 दिन भी नहीं संभाल पाई थी। वह चकमा देकर भाग गया। इस मामले में थाना प्रभारी अमर सिंह सिकरवार को लाइन अटैच कर दिया गया, जबकि तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया। बहोड़ापुर पुलिस ने बड़ा फर्जीवाड़ा किया था, चार पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई, लेकिन उसे लेकर दो ही गए, जिसके चलते वह भाग गया।

मुरैना से लेकर दिल्ली तक तलाश: आरोपित मुकेश परिहार ने भागने के बाद अपना भेष बदल लिया। वह मुरैना हाइवे की तरफ भागा है। इसके चलते पुलिस उसकी तलाश में मुरैना से दिल्ली तक दबिश दे रही है। अलग-अलग टीमें उसकी तलाश कर रही हैं।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close