ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। जयारोग्य अस्पताल में दांत का एक्सरे कराना है तो बाजार से फिल्म खरीद कर लानी होगी। आजकल अंचल के सबसे बड़े जयारोग्य अस्पताल में यह हाल है। यहां पर दंत रोग विभाग में पहुंचने वाले मरीजों की परेशानी यही नहीं थमती। रेडियोलॉजी विभाग में छोटी एक्सरे की फिल्म सप्लाई नहीं होती। इसलिए दंत रोग विभाग से ही मरीजों को फिल्म देकर रेडियोलॉजी पहुंचाया जाता है। लेकिन कई बार मरीजों को विभाग से फिल्म नहीं मिलती, तो उन्हें एक्सरे फिल्म भी बाजार से खरीदनी पड़ती है।

शहर ही नहीं दूर दराज से जयारोग्य के दंत रोग विभाग में पहुंचने वाले मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। दंत रोग विभाग में रेडियोग्राफर के अभाव में एक्सरे मशीन धूल खा रही है। जिस कारण मरीजों को जांच के लिए घंटों परेशान होना पड़ रहा है। दरअसल दंत रोग विभाग में एक एक्सरे मशीन है, लेकिन रेडियोग्राफर न होने के कारण मशीन धूल खा रही हे। इतना ही नहीं दंत रोग विभाग में पहुंचने वाले मरीजों को एक्सरे के लिए छोटी फिल्म देकर रेडियोलॉजी पहुंचा दिया जाता है। जबकि ओपीडी समय में रेडियोलॉजी में मरीजों की भीड़ लगी रहती है। ऐसे में कई बार मरीजों को बाद में आने की सलाह दी जाती है। जिस कारण कई मरीज बाहर से एक्सरे कराने पर मजबूर हो जाते हैं। उसके बाद भी जिम्मेदार दंत रोग विभाग की एक्सरे मशीन चालू नहीं करा पा रहे हैं। दंत रोग विभाग द्वारा आरबीजी मशीन की कई बार मांग की जा चुकी है। आरबीजी मशीन से डिजिटल एक्सरे होते हैं। इस मशीन के मिल जाने से चिकित्सक स्क्रीन पर ही एक्सरा देख सकते हैं। अगर यह मशीन दंत रोग विभाग को मिल जाए तो दांत के मरीजों को चिकित्सक द्वारा लिखे गए एक्सरे के लिए पर्ची व एक्सरे रिपोर्ट लेने के लिए समय बर्बाद नहीं करना पड़ेगा। इस सुविधा से स्टाफ ही नहीं बल्कि दांतों की ओपीडी में पहुंचने वाले सैकड़ों मरीजों को काफी राहत मिलेगी। जबकि मुरार जिला अस्पताल में आरबीजी मशीन उपलब्ध है।आरबीजी मशीन से डिजिटल एक्सरा होने लगा है। मशीन की उपलब्धता होने पर दांत के मरीजों को डाक्टर द्वारा लिखे गए एक्सरे के लिए पर्ची व एक्सरे रिपोर्ट लेने के लिए समय बर्बाद नहीं करना पड़ेगा। डेंटल चेयर पर उपचार करते समय डाक्टर को एक्स-रे की जरुरत पड़ती है तो डाक्टर सीधा आरबीजी मशीन के जरिए वहीं खड़े-खड़े लैपटाप की स्क्रीन पर ही एक्सरे देख मरीज का उपचार कर सकता है। इस सुविधा से स्टाफ ही नहीं बल्कि दांतों की ओपीडी में पहुंचने वाले सैकड़ों मरीजों को काफी राहत मिलेगी। यह सुविधा ग्वालियर के जिला अस्पताल में उपलब्ध है।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close