ग्वालियर, (नईदुनिया प्रतिनिधि) प्रदेश की आदर्श गोशाला के रूप में पहचान बना चुकी ग्वालियर नगर निगम की कृष्णायन गोशाला ने गायों को लंपी वायरस से बचाने के लिए एक माह से पहले से ही काम करना शुरू कर दिया था। यहां साढ़े आठ हजार से अधिक गौवंशी हैं, जिनका वैक्सीनेशन किया गया है। यही नहीं गोशाला के एक हिस्से में 100 गायों के लिए क्वारंटाइन सेंटर बनाया है। बीमारी से बचाने के लिए गायों को गुड़, अजवायन के साथ-साथ मौसमी सब्जियां दी जा रही हैं। गोशाला को संचालित करने वाले श्री कृष्णायन गोशाला हरिद्वार के संत ऋषभदेवानंद महाराज ने बताया कि गोशाला में दान करने वाले लोगों से चारे और लूसन के स्थान पर मौसमी सब्जियां दान करने को कहा जा रहा है। इन दिनों लौकी, कद्दू और खीरे के दाम काफी कम हैं। बाजार ये पांच से दस स्र्पये किलो मिल रहे हैं। मंडी में इनका भाव और भी कम है। दानदाताओं से दान में यही सब्जियां ली जा रही हैं। संत ऋषभदेवानंद महाराज का कहना है कि इन गायों को सुरक्षित रखने के लिये और क्वारंटाइन सेंटर बनाने की जरूरत है।

ग्वालियर-चंबल अंचल लंपी से 287 गौ-वंश ग्रस्त- देशभर में तेजी के साथ फैल रहे घातक लंपी वायरस ने दोनों अंचलों के आठों में जिलों में दस्तक दे दी है। अब तक इस रोग से ग्रस्त 300 से अधिक गौवंश की पहचान हो चुकी है। और यह वायरस तेजी के साथ फैल रहा है। किंतु आदर्श गौ-शाला का गौ-वंश अब तक सुरक्षित है।

गौ-वंश को बचाने के लिये यह किये उपाये-

गौ-वंश को जानलेवा वायरस से बचाने के लिए गौ-शाला में माहमारी फैलने के संकेत मिलते ही शुरू कर दिये थे। इसी का सुखद परिणाम हैं। बड़ी संख्या में गौ-वंश फिलहाल सुरक्षित है।

-वैक्सीनेशन- गौशाला में वर्तमान साढ़े आठ हजार गौ-वंश है। सबसे नगर निगम की मदद से गायों का वैक्सीनेशन किया गया है। एक वैक्सीन में 50 से 60 रुपये खर्च आया है।

- गौशाला में आने वाले गायों को क्वारंटाइन करना-नगर निगम का अमला प्रतिदिन सड़कों पर घूमने वाली 15 से 20 गायों को पकड़कर गौ-शाला में पहुंचाते हैं। इन गायों को सबसे पहले 15 दिन तक क्वारंटाइन कर चिकित्सकों व गौ-सेवकों द्वारा निगरानी की जाती है। लंपी के लक्षण देखे जाते हैं। क्वारंटाइन पीरियड निकलने के बाद अन्य गौ-वंश के साथ इन्हें रखा जाता है।

- मिनरल मिक्चर दिया जा रहा है- गौशाला की गायों को भूसे के साथ मिनरल मिक्चर दिया जा रहा है। इसमें सभी पोषक तत्व होते हैं। जो कि गायों में प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close