Gwalior Anti-encroachment News: दीपक सविता, ग्वालियर नईदुनिया। महाराज बाड़ा शहर के आसपास के ग्रामीण इलाकाें के लिए खरीदारी की मुख्य मार्केट है। यहां पर नजरबाग मार्केट, सराफा बाजार, सुभाष मार्केट, गांधी मार्केट है, लेकिन इन बाजाराें में दुकानदारों ने कब्जा कर अपनी दुकानों के कपड़े, सामान आदि बाहर निकाल लिया है। इसके साथ ही दुकानदारों ने अपने कांउटर भी 3 से 4 फीट बाहर निकाल लिए हैं। इसके कारण यहां पर आमजनों को चलने के लिए जगह नहीं बचती है।

लोगों को इससे काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। वहीं महाराज बाड़ा, सराफा बाजार, मोर बाजार, राक्सी टाकीज, माधौगंज के बाजार में सड़क करीब 30 से 50 फीट चौड़ी है, लेकिन इस मार्ग पर पैदल एवं वाहनों के चलने के लिए मात्र 20 फीट की जगह ही बचती है। सराफा बाजार में दुकानों के आगे करीब 8 से 10 फीट का फुटपाथ पैदल चलने वालों के लिए बनाया गया है, लेकिन दुकानदारों ने इन फुटपाथों को पक्का कर कब्जा कर लिया है। यहां पर लोग अपनी गद्दी जमाते हैं। इसके बाद सड़क पर 10 फीट तक दोनों ओर से दुकानों के सामने गाड़ियां खडी करते हैं। जिससे सड़क घटकर 30 फीट रह जाती है। इसके बाद दुकानदारों, उनके कर्मचारियों एवं ग्राहकों के चार पहिया एवं दो पहिया वाहनों की दो-दो कतारें लग जाती हैं, जिसके बाद सड़क पर बामुश्किल 15 फीट जगह बचती है। इसके बाद ठेलेवाले, पथकर विक्रेता अपना कब्जा जमाते हैं। ऐसे में लोगों का सड़क पर चलना मुशिकल हो जाता है। इसी प्रकार महाराज बाड़ा पर टैंपाे, विक्रम, टमटम वाहन एवं दो पहिया एवं चार पहिया वाहनों के गलत तरीके से खड़े होने के कारण आमजनों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local