ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। मूलभूत सुविधाओं से जुड़ी सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों के निराकरण के मामले में ग्वालियर की रैंकिंग अभी छठवीं है। जुलाई माह में नगर निगम में कुल 6668 शिकायतें दर्ज की गई हैं। इनमें साफ-सफाई, पेयजल, सीवेज, भवन अनुज्ञा, स्ट्रीट लाइट जैसी 18 विभागों की शिकायतें शामिल हैं। सीएम हेल्पलाइन की 12 अगस्त तक की स्थिति में पहले नंबर पर रीवा, दूसरे नंबर पर सिंगरौली, तीसरे नंबर पर इंदौर, चौथे नंबर पर बुरहानपुर और पांचवें नंबर पर उज्जैन है।

12 अगस्त तक की स्थिति में 6668 में 1689 शिकायतें लंबित हैं। इनमें लेवल एक स्तर पर 534, लेवल दो पर 553, लेवल तीन पर 457 और लेवल चार पर 145 शिकायतें हैं। इनमें नगर निगम के राजस्व विभाग की सात, साफ-सफाई से जुड़ी हुईं 221, पेयजल से संबंधित 192, सिविल से जुड़ी हुईं 159, सीवेज से जुड़ी हुईं 381, भवन अनुज्ञा की 49, अस्थायी अतिक्रमण की 10, प्रकाश व्यवस्था की 312, आवारा पशुओं की 41, आवारा कुत्तों से जुड़ी हुईं 70, उद्यान विभाग से संबंधित 11, पार्किंग की दो, यांत्रिकी योजना प्रकोष्ठ की दो, स्थापना पेंशन की दो, सामान्य प्रशासन की सात, स्मार्ट सिटी की 130, जन कल्याणकारी योजनाओं से संबंधित 60 और स्थायी अतिक्रमण से जुड़ी हुईं 33 शिकायतें शामिल हैं। इनमें सबसे अधिक गंभीर शिकायतें स्ट्रीट लाइट से जुड़ी हुई हैं, क्योंकि 312 में से 79 शिकायतें ऐसी हैं जो अब लेवल चार तक पहुंच गई हैं। लेवल चार का मतलब सीधे नगर निगम आयुक्त होता है और इस स्तर तक पहुंची शिकायतों के निराकरण की जिम्मेदारी निगमायुक्त की होती है। इसके चलते निगमायुक्त किशोर कान्याल ने पिछले दिनों हुई समीक्षा बैठक में निर्देश दिए हैं कि सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों को समय सीमा में संतुष्टिपूर्ण निराकरण कराया जाए। ऐसा न होने पर संबंधित अफसरों के खिलाफ प्रशासनिक स्तर पर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close