Gwalior Aviation News:ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। नए एयर टर्मिनल का काम तेजी से शुरू हो गया है और इधर जयपुर के लिए हवाई यात्री नहीं मिल रहे हैं। अब कंपनी विचार कर रही है कि यात्री बढाने के लिए क्या किया जाए। नया टर्मिनल आलू अनुसंधान केंद्र की जिस जमीन पर बनेगा, उधर लैंड ट्रांसफर की फाइल ग्वालियर संभागायुक्त से होकर भोपाल में आयुक्त राजस्व के यहां पहुंच चुकी है। कुछ ही दिनों में यह लैंड ट्रांसफर का मामला भी निपट जाएगा।

ज्ञात रहे कि एयरपोर्ट से सटकर ही आलू अनुसंधान केंद्र की 135 एकड़ जमीन नए एयर टर्मिनल के लिए चयनित हुई है। यह जमीन आलू अनुसंधान केंद्र को निशुल्क दी जाएगी। इसी कारण लैंड ट्रांसफर की फाइल चल रही है। नए एयर टर्मिनल को लेकर नागरिक उडडयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया विशेष प्रयास कर रहे हैं,इसी कारण सभी काम समानांतर तौर से हो रहे हैं। नए एयर टर्मिनल के लिए चार सौ करोड से ज्यादा का बजट है जोकि अत्याधुनिक तकनीक के आधार र बनाया जाएगा। इसमें हैंगर, कार्गाे हब से लेकर पार्किंग व आवासों का प्लान भी किया गया है।एयरपोर्ट के लिए जब जमीन दी जाती है तो यह निशुल्क दी जाती है। इसके लिए यह नियम पहले से बना हुआ है। इसी कारण लैंड ट्रांसफर किया जाएगा जिससे निशुल्क आवंटन किया जा सके। कलेक्टर ग्वालियर के बाद संभागायुक्त से फाइल होकर भोपाल पहुंच चुकी है।गवालियर से कार्गाे सेवा का शुभारंभ होने के बाद बाहर से माल आने का आंकडा ज्यादा है। सितंबर से अभी तक 11 टन माल बाहर से ग्वालियर आ चुका है। इसमें अलग अलग शहर शामिल हैं। वहीं ग्वालियर से माल बाहर भेजे जाने का आंकडा कम है।

20 प्रतिशत लोड में नहीं चल पाएगी सेवा

जयपुर हवाई सेवा अब बंद होने के कगार पर है। पिछले सितंबर के मध्य से जयपुर के लिए हवाई सेवा नहीं चली है। इसका कारण यह कि जयपुर के लिए यात्री नहीं मिल रहे हैं केवल बीस प्रतिशत यात्री लोड है। सबसे पहले नंबर पर बंगलुरू है। वहीं स्पाइस जेट कंपनी जयपुर के लिए इसमें लिंक रूट जोड भी सकती है जिससे सेवा शुरू की जा सके।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local