Gwalior Breaking News: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। भिंड के मौ में पदस्थ नायब तहसीलदार का बाबू श्रीकृष्ण बौहरे बुधवार सुबह सिटी सेंटर में 20 हजार रूपए की रिश्वत लेते पकड़ा गया। श्रीकृष्ण को लोकायुक्त टीम ने ट्रैप किया है। वसीयत में अमल कराने के नाम पर यह रिश्वत ली जा रही थी और कुल 30 हजार डील तय हुई थी। 10 हजार रूपए बाद में देना थे। श्रीकृष्ण ग्वालियर में ही रहता है और लोकायुक्त की यह कार्रवाई मंगलवार को होना थी। कार्रवाई इसलिए नहीं हो सकी कि मंगलवार को मौ से ग्वालियर लौटते समय श्रीकृष्ण का एक्सीडेंट हो गया और वह घायल हो गया था। इसके बाद भी उसने बुधवार को फरियादी हरि सिंह राणा को सिटी सेंटर के जीवन ज्योति अस्पताल के पास बुलाया था।

एसपी लोकायुक्त संजीव सिन्हा ने बताया कि फरियादी हरि सिंह राणा के पिता ने वसीसत में उनके बेटों के नाम संपत्ति की थी। यह संपत्ति मौ में ही है। इस पर हरि सिंह के भाई को आपत्ति थी। मामला सिविल कोर्ट में पहुंचा लेकिन हरि सिंह के फेवर में निर्णय हुआ। वसीयत के लिट्रेचर के आधार पर राजस्व में अमल होना था इसी बात के हरि सिंह से मौ में पदस्थ बाबू श्रीकृष्ण बौहरे 30 हजार रूपए मांग रहा था। हरि सिंह ने लोकायुक्त टीम से संपर्क किया और फिर पूरा होमवर्क अफसरों ने किया। मंगलवार को ही यह रिश्वत श्रीकृष्ण मांग रहा था लेकिन एक्सीडेंट होने के कारण मामला टल गया। घायल होने के बाद भी बाबू बाज नहीं आया और रिश्वत लेने हरिसिंह को बुला लिया। अस्‍पताल में जैसे ही बाबू ने रिश्‍वत ली, वैसे ही लोकायुक्‍त की टीम ने उसे रंगे हाथों पकड़ा।

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags