Gwalior Chambal Coronavirus News Update : ग्वालियर। मुरैना-भिंड जिले में शुरू में बरती गई लापरवाही अब भारी पड़ रही है। अंचल के यह दोनों जिले कोरोना के मामले में डेंजर जोन में है। यहां तेजी से मरीजों की संख्या बढ़ रही है। मुरैना में पिछले 8 दिन में जहां 214 मरीज बढ़े हैं तो वहीं भिंड में 90 मरीजों का इजाफा हुआ है। मुरैना में 35 और भिंड में 25 ऐसे मरीज मिले हैं, जिनके संक्रमण कोई सोर्स नहीं मिला है। पड़ोसी जिला होने के कारण ग्वालियर पर भी खतरा मंडरा रहा है, क्योंकि भिंड-मुरैना के अधिकांश लोगों की ग्वालियर में आवाजाही होती है। ऐसे में बॉर्डर सील नहीं हुई तो शहर भी संकट में आ सकता है। डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधि भी मुरैना-भिंड की स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। साथ ही डे टू डे मॉनीटरिंग भी की जा रही है।

लॉकडाउन के बाद प्रवासी मजदूरों के लौटने का सिलसिला शुरू हुआ तो ग्वालियर ने चेकपोस्ट पर ही क्वारंटाइन सेंटर बना दिए। यहां बाहर से आने वालों को रोककर जांच कराने के बाद ही घर भेजा जा रहा था, जबकि भिंड-मुरैना में इस प्रकार की सतर्कता नहीं बरती गई। वहां दूसरे राज्यों से आने वालों को सीधा घर भेज दिया गया। इसी वजह से शुरुआत में इन जिलों में सैंपलिंग भी काफी कम रही है। इस लापरवाही के गंभीर परिणाम अब सामने आने लगे हैं। सूत्रों की माने तो भिंड-मुरैना पर सामुदायिक संक्रमण का खतरा मंडराने लगा है।

सोर्स नहीं मिलना बड़ी परेशानी : मुरैना-भिंड में प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग की सबसे बड़ी परेशानी संक्रमित मरीज में वायरस का सोर्स नहीं मिलना बना हुआ है। मुरैना में करीब 35 एवं भिंड में ऐसे 25 मरीज हाल ही में मिले हैं, जिनमें संक्रमण का सोर्स नहीं मिल सका है। इस स्थिति में सामुदायिक संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है।

सैंपलिंग भी कम हुई : कोरोना के मामले में मुरैना ने ग्वालियर को पीछे छोड़ दिया है। मुरैना में अब तक 406 केस मिल चुके हैं, जबकि 4 मौत हो चुकी है। यहां पर सैंपलिंग केवल 5191 लोगों की हुई है। वहीं ग्वालियर में अब तक 368 केस मिले हैं और 4 मौत हो चुकी है। मगर यहां पर करीब 28 हजार से अधिक लोगों की सैंपलिंग की जा चुकी है। साथ ही पूल सैंपलिंग भी कराई जा रही है। मुरैना में अब तक पूल सैंपलिंग शुरू नहीं हुई है। इसी प्रकार भिंड में अब तक 223 केस मिल चुके हैं, जबकि सैंपलिंग केवल 4512 लोगों की हुई है।

इसलिए ग्वालियर भी खतरे में : मुरैना और भिंड दोनों ही जिले ग्वालियर से सटे हुए हैं। मुरैना में पिछले 8 दिन में करीब 214 नए केस मिल चुके हैं, जबकि भिंड में 90 केस नए मिले हैं। ऐसे में सीमा से सटा होने के कारण ग्वालियर भी खतरे में आ गया है। मुरैना-भिंड के लोगों के निवास भी ग्वालियर में है। रोजगार या अन्य कारणों से लोगों की यहां रोजाना आवाजाही होती है। ऐसे में यदि बॉर्डर सील नहीं की गई या चौकसी में लापरवाही बरती गई तो सीमाओं के जरिए कोरोना शहर में प्रवेश कर सकता है।

तीनों जिलों की अब तक की स्थिति

मुरैना

406 पॉजिटिव केस

247 एक्टिव केस

5191 कुल जांचे हुईं

155 मरीज डिस्चार्ज हो चुके हैं

5 मौत हो चुकी हैं

भिंड

223 पॉजिटिव केस

84 एक्टिव केस

4512 कुल जांचें हुईं

138 स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं

0 मौत

ग्वालियर

368 पॉजिटिव केस

83 एक्टिव केस

28912 कुल जांचें हुईं हैं

282 मरीज अब तक डिस्चार्ज हो चुके हैं

4 मौतें हुई हैं

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना