Gwalior Chambal Zone Assembly Seats अनिल तोमर। ग्वालियर नईदुनिया। मुरैना जिले की अंबाह व दिमनी विधानसभा सीट केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के प्रभाव वाली हैं। हालांकि अघोषित तौर पर दोनों सीटें व मुरैना की अन्य तीन सीटें सांसद होने के नाते भी केंद्रीय मंत्री की प्रतिष्ठा से जुड़ी है। अंबाह की 20 अक्टूबर की सभा में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंच से केंद्रीय मंत्री तोमर की इज्जत को इन सीटों की जीत से जोड़ दिया है। ऐसे में अब केंद्रीय मंत्री मुख्यमंत्री के भाषण के बाद फंसा हुआ महसूस कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने अंबाह में इस बात को इसलिए कहा, क्योंकि दोनों ही सीटें तोमर बाहुल्य हैं। हालांकि 2013 व 2018 में अंबाह व दिमनी की सीटें भाजपा नहीं जीत पाई थी। खास बात यह है कि ग्वालियर-चंबल अंचल अब तक भाजपा के कद्दावर नेता केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का गढ़ माना जाता था। सिंधिया की भाजपा में एंट्री के बाद अब अंचल में दो पॉवर सेंटर हो गए हैं। राजनीतिक विश्लेषकों की माने तो इन सीटों की हार जीत से तोमर व ज्योतिरादित्य सिंधिया का कद तय होगा।

भाषण में क्या कहा सीएम ने

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 20 अक्टूबर को अंबाह में हुई सभा में कहा था कि यह चुनाव केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की इज्जत व प्रतिष्ठा का चुनाव है। उनका गांव भी इसी क्षेत्र में आता है। अगर यहां नहीं जीते तो मोदीजी के बगल में बैठने वाले तोमर की इज्जत व प्रतिष्ठा का क्या होगा।

आखिर जीत को क्यों जोड़ा तोमर की इज्जत से

-केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर मुरैना से लोकसभा का चुनाव तो जीत जाते हैं। जबकि 2013 और 2018 के विधानसभा चुनाव में अंबाह और दिमनी से पार्टी को हार का मुंह देखना पड़ा है। यह दोनों ही सीटें तोमर के प्रभाव वाली हैं। तोमर यहीं से सर्वाधिक मत लेकर जीतते हैं।

-दिमनी विस सीट पर भी भाजपा ने राज्यमंत्री गिर्राज डंडोतिया को मैदान में उतारा है। डंडोतिया के प्रचार में लगे लोगों के मुताबिक केंद्रीय मंत्री के समर्थक भाजपा के पदाधिकारी व कार्यकर्ता न तो कार्यालय आ रहे हैं और न ही प्रचार में ही जा रहे हैं। केवल बड़ी सभाओं में ही अपनी उपस्थिति दिखाते है। यहां तक कि क्षेत्र के भाजपा से विधायक रहे व केंद्रीय मंत्री के नजदीकी माने जाने वाले शिवमंगल सिंह तोमर ने भी क्षेत्र से दूरी बना रखी है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस