Gwalior cold news: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जम्मू कश्मीर में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ से शहर का मौसम बदल गया है। रात में बादल छाने से न्यूनतम तापमान 8.6 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया, जिससे ठंड गई, लेकिन दिन में गरज-चमक के साथ बूंदाबादी की वजह से ठंड बढ गई। मौसम विभाग ने 26 जनवरी तक इसी तरह के मौसम के आसार जताए हैं। गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी का दौर जारी रहेगा। हल्के से मध्यम कोहरा भी छाएगा। 24 से 25 के बीच तेज बूंदाबांदी हो सकती है। हालांकि ओलों की संभावना नहीं है।

जम्मू कश्मीर में पहला मजबूत पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हुआ है, जिसने ग्वालियर-चंबल संभाग का मौसम भी प्रभावित किया है। उत्तरी हवा थमने से रात में ठंड घट गई है। तापमान सामान्य से ऊपर पहुंच गया। दिनभर बादलों ने घेराबंदी रखी, जिसकी वजह से धूप नहीं निकल सकी। न्यूनतम तापमान सामान्य से 1.6 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। अधिकतम तापमान सामान्य से 1.6 डिसे कम रहा। इस कारण ठंड का अहसास हुआ।

आगे ऐसा रहेगा मौसम

- जम्मू कश्मीर में एक साथ दो पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हैं, जो 26 जनवरी तक मौसम को प्रभावित करेंगे। इन पश्चिमी विक्षोभों को अरब सागर से नमी मिल रही है। दिल्ली एनसीआर में मौसम में बदलाव आया है। ग्वालियर-चंबल संभाग नजदीक होने से मौसम प्रभावित हुआ है।

- पश्चिमी उत्तर प्रदेश से लगे ग्वालियर-चंबल संभाग के हिस्सों में ज्यादा असर रहेगा।

- बादल छाने की वजह से रात का तापमान आठ डिग्री सेल्सियस से ऊपर रहेगा। दिन का तापमान 22 से 25 डिग्री सेल्सियस के बीच दर्ज होगा।

- बूंदाबांदी की वजह से हवा में नमी आचुकी है। इस नमी की वजह से घना कोहरा छाएगा। रविवार को हवा में नमी होने की वजह से घना कोहरा छाया था। दृश्यता 200 मीटर रही थी।

बादलों ने किसानों की चिंता बढाई

जिला सहित अंचल में गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी हुई है। इस बूंदाबादी ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है, क्योंकि सरसों की फसल में पकने की प्रक्रिया चल रही है। गेहूं, चना, मटर सहित अन्य फसलें भी बड़ी हो चुकी हैं। यदि ओला वृष्टि हो जाती है तो काफी नुकसान की संभावना है।

- अगले चार दिन में जो बूंदाबादी होने वाली है, उसमें मावठ की संभावना कम है।

पांच दिन रहा कड़ाके की ठंड का दौर

तारीख न्यूनतम तापमान

जन.16 2.5

17 2.9

18 2.3

19 3.9

20 4.1

21 6.3 अधिकतम तापमान-21.6 डिसे

न्यूनतम तापमान-8.6 डिसे

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close