Gwalior Cooperative News: वरुण शर्मा, ग्वालियर नईदुनिया। गरीबों के लिए सब्सिडी रेट में सप्लाई होकर पहुंचने वाला केरोसिन हर राशन की दुकान पर नहीं है। ग्वालियर में हर महीने एक लाख 70 हजार लीटर से लेकर दो लाख 30 हजार लीटर केरोसिन की सप्लाई है। जिन एक लाख 64 हजार परिवारों को पात्रता है, उनमें से अधिकतर को राशन दुकानों पर दुकानदार गैस कनेक्शन का हवाला देकर केरोसिन नहीं देते। हकीकत यह है कि सरकारी कागजों में राशन दुकानों तक पहुंचने वाला तेल ब्लैक में बिक रहा है। इसका दाम है 60 रुपये प्रति लीटर। होल सेलर और सेमी होल सेलर के स्तर से ही केरोसिन ठिकाने लगा दिया जाता है। नईदुनिया की पड़ताल में यह सामने आया कि किस तरह सरकारी केरोसिन को बाजार में आसानी से बेच दिया जाता है। खुद नईदुनिया टीम ने राशन दुकानों पर सप्लाई करने वाले केरोसिन के होल सेलर से केरोसिन खरीदने के लिए डील की तो नया स्टॉक आते ही 50 लीटर या जितना चाहिए, वह 60 रुपये प्रति लीटर में बेचने के लिए राजी हो गया। अब सब साफ था कि गरीबों के लिए भेजे जाने वाला सरकार का केरोसिन ऐसे कैसे राशन दुकानों तक पहुंच सकेगा।

क्या है केरोसिन का गणित: समझिएः राशन दुकानों पर आने वाला केरोसिन नीले और पीले कार्डधारकों को मिलता है। नीले प्राथमिक हाउसहोल्ड और पीले यानी अति गरीब को मानते हैं, अब पीले कार्ड नहीं बनते हैं। नीले कार्ड वालों को 32 रुपये प्रति लीटर के भाव से दो लीटर प्रति माह और पीले कार्ड वालों को तीन लीटर प्रति माह की पात्रता है। जिले में कुल एक लाख 64 हजार लोगों को केरोसिन की पात्रता सरकारी रिकॉर्ड में है। केरोसिन होल सेलर डीलर से सेमी होल सेलर और फिर राशन की दुकानों पर पहुंचता है।

पड़ताल: 50 लीटर की डील, होल सेलर बोला-60 के भाव से मिलेगाः नईदुनिया टीम ने केरोसिन के होल सेलर मैसर्स ठाकुरदास एंड कंपनी के मोबाइल नंबर पर संपर्क किया। हमने केरोसिन तेल की मांग की कि 20 लीटर से लेकर 50 लीटर तक मिल जाए। यहां से लोकेंद्र कौरव नाम के डीलर का नंबर दिया गया। दिए गए मोबाइल नंबर पर कॉल किया तो पहले केरोसिन फिलहाल उपलब्ध न होने की बात बताई और कहा कि कोटा दुकानों से बंट चुका है। इसके बाद हमने कहा कि कुछ दिन बाद मिल जाएगा क्या, तो डीलर ने कहा कि एक तारीख के बाद कोटा आता है तो मिल जाएगा। हमने 50 लीटर केरोसिन की बात की तो डीलर राजी हो गया और भाव पूछा तो 60 रुपये प्रति लीटर बताया। हमने कहा कि कंट्रोल पर तो 32 रुपये का मिल रहा है, डीलर ने कहा वो तो कंट्रोल वाला रेट है। हमने कुछ कम करने को कहा तो डीलर ने कहा वह भी देख लेंगे।

यह हैं होल सेल केरोसिन डीलर

- मैसर्स दीवान ऑयल श्रीराम कॉलोनी एजी ऑफिस

- मैसर्स अग्रवाल ब्रदर्स थोक केरोसिन डीलर सनातन धर्म मंदिर रोड

- मैसर्स भारत ऑयल इंदरगंज चौराहा

- मैसर्स ठाकुरदास एंड कंपनी मैनावाली गली

- मैसर्स जैन मोटर्स कंपू

- मैसर्स कुंदनमल सूरजमल थोक केरोसिन राजीव प्लाजा के सामने

- मैसर्स अशोका पेट्रोलियम थोक केरोसिन एबी रोड घाटीगांव

- मैसर्स डबरा ऑटो बस स्टैंड के सामने

- मैसर्स पन्नालाल प्रहलाद दास थोक केरोसिन सुभाषगंज डबरा

- मैसर्स दोदेरिया ऑयल कंपनी भितरवार

मुख्यमंत्री ने कहा था-केरोसिन क्यों न बंद होः मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हाल ही में कहा था कि राशन की दुकानों पर केरोसिन की खपत है या नहीं, अगर नहीं है तो बंद कर देना चाहिए। इसको लेकर कलेक्टरों से प्रस्ताव भी मांगे हैं, लेकिन ग्वालियर में अभी न कोई जांच हुई न सप्लाई बंद करने को लेकर निर्णय हुआ।

केरोसिन की सप्लाई राशन दुकानों पर की जाती है जिले में हर माह एक लाख 70 हजार लीटर से दो लाख 30 हजार लीटर तक की सप्लाई है। होल सेलर से सेमी होल सेलर और फिर वहां से राशन दुकान पर केरोसिन पहुंचता है। यदि होल सेलर डीलर ब्लैक कर रहे हैं ताे इसकी पड़ताल कराई जाएगी। सीएस जादौन, जिला आपूर्ति अधिकारी

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags