ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना संक्रमण में हुए उपचुनाव के नतीजे अंचल भुगत रहा है। कोरोना मीटर की रफ्तार थमने के बाद फिर से काेराेना ने गति पकड़ ली है। कोरोना से बेखौफ राजनीति में नगरीय निकाय चुनाव की तैयारी शुरू हो गईं हैं। पार्षदी के टिकट के दावेदाराें ने नेताओं के घरों के चक्कर लगाना शुरू कर दिए हैं। उपचुनाव में टिकट दिलाने का वादा करने वाले नेता ज्यादा परेशान हैं। दावेदार सुबह से उनके घर के दरवाजे पर जाकर बैठ जाते हैं। नेता दावेदारों की नाराजगी से बचने की युक्ति तलाश रहे हैं। दक्षिण विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने पार्षदी के टिकट के झंझट से बचने के लिए फार्मूला तलाश लिया है। उन्होंने दावेदारों से साफतौर बोल दिया है कि ब्लॉक, मंडलम व सेक्टर अध्यक्षों के माध्यम से आने वाले नामों को आगे बढ़ाया जाएगा। इसलिए दावेदारी का आवेदन अपने क्षेत्र के अध्यक्षों को दें।

वार्ड आरक्षण की प्रक्रिया पूरी हाेने के साथ ही अब नगर निगम चुनाव की सुगबुगाहट शुरू हाे गई है। टिकट के दावेदार नेताआें के समर्थकाें ने ताे अभी से इंटरनेट मीडिया पर फाेटाे के साथ मजबूत दावेदारी जताना भी शुरू कर दिया है। सामाजिक एवं धार्मिक आयाेजनाें में पहुंचकर दावेदाराें ने जनता की नब्ज टटाेलना भी शुरू कर दिया है। इंटरनेट मीडिया के माध्यम से अपने नेताआें काे ताकत दिखाई जा रही है, जिससे टिकट मिलने का रास्ता साफ हाे सके।

हर वार्ड में दावेदाराें की फाैजः नगर निगम चुनाव में हर वार्ड में दाेनाें ही दलाें में दावेदाराें की लंबी चाैड़ी फाैज है। उपचुनाव के दाैरान जिन प्रत्याशियाें ने टिकट दिलाने का वायदा कर दिया था, वह अब बुरी तरह से फंस गए हैं। विधायक प्रवीण पाठक ताे इस झंझट से बच निकलने की युक्ति निकाल चुके हैं, जबकि बाकी नेता भी काेई रास्ता निकालने में जुटे हुए हैं। क्याेंकि टिकट केवल एक काे मिलना है, एेसे में बाकी की नाराजगी तय है।

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस