Gwalior Corona Virus News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना महामारी अपने चरम पर हैं। आलम यह है कि कोरोना संक्रमित मरीज को एक आक्सीजन बेड उपलब्ध कराना किसी जंग से कम नहीं है। वह भी तब जब बात जयारोग्य अस्पताल के सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल की हो। यहां पर कोविड संक्रमित अतिगंभीर मरीजों को ही प्रवेश देने का प्रविधान है। पर यह प्रविधान केवल जन समान्य के लिए है, क्योंकि वीआइपी के लिए बैक डोर खुला हुआ है।

इस आधुनिक अस्पताल से ऐसे दो मामले सामने आए हैं, जिनमें नियमों की बात करने वाले जेएएच प्रबंधन ने नान-कोविड मरीजों को सुपर स्पेशियलिटी में भर्ती कर दिया। अब सवाल यह है कि कमलाराजा अस्पताल में भर्ती ऐसे कोविड संक्रमित मरीज, जिनका आक्सीजन लेवल 90 से नीचे है और उनके फेफड़ों में संक्रमण होने के बाद भी उन्हें वंेटिलेटर व कोविड प्रोटोकॉल से इलाज मिल पा रहा है। इन मरीजों को सुपर स्पेशियलिटी में भर्ती कर इलाज क्यों नहीं दिया जा सकता या सिर्फ सुपर स्पेशलिटी की सुविधा उन्हीं को मिलेगी, जिनके पास राजनीतिक या प्रशासनिक पावर है।

इन नान कोविड मरीजों को किया था भर्ती

केस-1: गुड्डी किरार, उम्र 54 वर्ष गुना निवासी गिर्राज किरार का कहना है कि उनकी पत्नी गुड्डी (54 वर्षीय) को निजी अस्पताल में भर्ती किया, जहां उसके फेफड़ों में संक्रमण बताया था। जब कोरोना रिपोर्ट निगेटिव थी, जब वेंटिलेटर की आवश्यकता पड़ी उन्हें जेएएच स्थित सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल लेकर आए। इससे पहले कैजुअल्टी में रैपिड जांच कराई तो वहां भी रिपोर्ट निगेटिव आई। सुपर स्पेशियलिटी के बाहर चार घंटे तक भर्ती करने के लिए इंतजार करते रहे, पर डाक्टरों ने भर्ती नहीं किया। जब एसडीएम प्रदीप तोमर व कलेक्टर ने फोन किया तब भर्ती किया, लेकिन तब तक गुड्डी की जान जा चुकी थी। अस्पताल की लिफ्ट खराब होने से ऊपर तक पहुंचाने के लिए मशक्कत करनी पड़ी।

केस-2: नाथूराम (उम्र 65 वर्ष) डबरा निवासी 65 वर्षीय नाथूराम गुप्ता के बेटे का कहना है कि एक सप्ताह पहले सीटी स्कैन में पिता के फेफड़ों में संक्रमण पाया गया था। निजी अस्पताल में भर्ती किया पर वहां कोरोना जांच नहीं कराई थी। रविवार को जब वेंटिलेटर की आवश्यकता पड़ी तो उन्हें जेएएच लेकर आए। कैजुअल्टी में भी उनकी रैपिड जांच निगेटिव आई। इसके बाद किसी तरह से सुपर स्पेशियलिटी में रविवार शाम को भर्ती किया पर देर रात को उनकी मौत हो गई।

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags