Gwalior Coronavirus News : ग्वालियर। ग्लब्स की कमी और ऊपर कोरोना का भय डॉक्टर से लेकर नर्सिंग स्टाफ व मैदानी अमला परेशान है। उन्हें न तो सुरक्षा के लिए ग्लब्स उपलब्ध कराए जा रहे हैं और न ही एन-95 मास्क। सिविल सर्जन डॉ.डीके शर्मा इस परेशानी को लेकर सीएमएचओ से लेकर ज्वाइंट डायरेक्टर हेल्थ को खत लिख चुके, लेकिन कोई सुनवाई नहीं है। इससे कोरोना से बचाव कार्य में लगे स्वास्थ्यकर्मियों पर संक्रमण का खतरा मंडराने लगा है। प्रसूतिगृह के डॉक्टर,स्टाफ व सैंपलिंग में लगी टीम से लेकर मैदानी अमला परेशान है।

मुरार प्रसूतिगृह में प्रतिदिन 3 ऑपरेशन और 15 से अधिक डिलीवरी होती हैं। इसलिए हर दिन स्टाफ को 100 से अधिक एक बार उपयोग करने वाले ग्लब्स की जरुरत होती है। इसकी पूर्ति सिविल सर्जन स्टोर से नहीं हो पा रही है। स्टोर में ग्लब्स उपलब्ध न होने से प्रसूतिगृह में स्टाफ को पुराने ग्लब्स उपयोग में लेने के लिए तैयार करना होते हैं। हर दिन पुराने ग्लब्स को पहले डिसइन्फेक्टिड किया जाता है। उसके बाद उन्हें साबुन के पानी से धोकर ऑटो क्लेव किया जाता है। इसके बाद इन पुराने ग्लब्सों को उपयोग में लिया जा रहा है।

सैंपलिंग व मैदानी अमला भी परेशान

सैंपलिंग में लगी टीम को भी ग्लब्स उपलब्ध नहीं हो पा रहे हैं। जो पुराना स्टॉक था अभी उससे ही काम चलाया जा रहा है। इसके अलावा मैदानी अमला जिसमें आगंनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा व एएनएम की 1 जुलाई से किल कोरोना में ड्यूटी लगाई गई, लेकिन इन लोगों को साधारण मास्क व सैनिटाइजर तो उपलब्ध करवा दिया पर ग्लब्स नहीं दिए जा सके।

ग्लब्स की कमी है जिसके चलते परेशानी आ रही है। कुछ तो नए ग्लब्स मिल जाते हैं और कुछ पुराने ग्लब्स को ऑटो क्लेव कर उपयोग में ले रहे हैं। डॉ रजनी जैन, प्रसूतिगृह मुरार

ऑर्थो, प्रसूतिगृह, सैंपलिंग टीम इन सभी को ग्लब्स की आवश्यकता होती है। पर ग्लब्स की उपलब्धता न होने स परेशानी आ रही है। सीएमएचओ स्टोर से ग्लब्स नहीं मिले तो ज्वाइंट डायरेक्टर से मांग की तो 100 ग्लब्स ही उपलब्ध हो सके। डॉ डीके शर्मा, सिविल सर्जन मुरार

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना