Gwalior Court News: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। हाई कोर्ट की युगल पीठ में हेलमेट पर सख्ती करने की मांग को लेकर की गई जनहित याचिका पर जवाब पेश किया गया है। डीजीपी व ग्वालियर चंबल संभाग के आठ जिले सहित विदिशा के पुलिस अधीक्षक ने जवाब में कहा है कि जन रक्षा हेलमेट बैंक योजना लागू की है। इस योजना के तहत पंचायत स्तर पर हेलमेट बैंक बनाया जाएगा। गांव से जो भी व्यक्ति शहर आएगा, उसे किराए पर हेलमेट दिया जाएगा। किराया तय करने के अधिकार पंचायत को दिए गए हैं। व्यक्ति 50 रुपये सुरक्षा निधि जमा कराके हेलमेट ले जा सकेगा। जब वह हेलमेट जमा करेगा तब उसे 50 रुपये लौटा दिए जाएंगे। इस योजना से जिला स्तर पर अवगत करा दिया गया है। जुलाई के पहले सप्ताह में इस मामले में अगली सुनवाई संभावित है।खेड़ापति कालोनी निवासी ऐश्वर्या सांडिल्य ने जनहित याचिका दायर की है।

अधिवक्ता अवधेश सिंह तोमर ने याचिका में तर्क दिया है कि हेलमेट अनिवार्य किया गया है, लेकिन इस कानून का कड़ाई से पालन नहीं किया जा रहा। लोग हेलमेट नहीं पहनते, जिससे दुर्घटना में उनकी मौत हो रही है। दिल्ली में पुलिस कड़ाई बरती है तो वहां दाेपहिया वाहन सवार बिना हेलमेट के नहीं निकलते। ग्वालियर के छावनी बोर्ड के रास्ते में भी लोग बिना हेलमेट के नहीं निकल सकते हैं। इसी सख्ती से अन्यों सड़कों पर भी पुलिस पेश आने लगे तो लोग हेलमेट को आदत में ढाल लेंगे। उन्होंने यह भी तर्क दिया कि बीते समय रमाया होटल के पास केंद्रीय विद्यालय के दो विद्यार्थियों की सड़क दुर्घटना में मौत हुई थी। यहां पर सड़क जांच नहीं की गई। यदि ये छात्र हेलमेट लगाए होते तो उनकी जान बच सकती थी। डीजीपी ने हाई कोर्ट में हेलमेट को लेकर जवाब पेश किया है। डीजीपी के जवाब में कहा गया है कि हेलमेट बैंक योजना का परिपत्र कलेक्टर, एसपी, परिवहन विभाग, जिला पंचायतों को जारी किया जा चुका है।

ग्वालियर एसपी का जवाब- हादसों में 10 फीसद आई कमी : ग्वालियर के पुलिस अधीक्षक ने अपने जवाब में कहा है कि सड़क दुर्घटनाओं में 10 फीसद की कमी आई है। शहर में दुर्घटना संभावित क्षेत्रों की पहचान कर वहां संकेतक लगाए गए हैं। ड्रोन से निगरानी की जाती है। वीडियोग्राफी भी कराई जाती है। नशा कर वाहन चलाने वालों पर जुर्माने की कार्रवाई की जा रही हैं। शहर के लेफ्ट टर्न क्लीयर कराए जा रहे हैं ताकि सीधी भिड़ंत न हो। ट्रैक्टर-ट्रालियों पर रिफ्लेक्टर लगाए हैं।शहर में सुबह छह से रात 11 बजे तक भारी वाहन प्रतिबंधित किए हैं।

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags