Gwalior Court News: बलबीर सिंह, ग्वालियर नईदुनिया। विशेष सत्र न्यायालय ने उस आरोपित का जमानत आवेदन खारिज कर दिया, जिसने एक युवती को शांदी का झांसा देकर दुष्कर्म किया था। उसके बाद आरोपित आशीष पाठक अपने वायदे से मुकर गया था। इसके बाद दुखी हाेकर पीड़िता ने उसके घर के पास ही खुद पर पेट्रोल डालकर आग लगा ली थी। मृत्यु पूर्व कथन में पीड़िता ने पूरी घटना बताई थी।

29 अप्रैल 2022 को एक युवती ने प्रेमी के घर के पास पेट्रोल डालकर खुद काे आग लगा ली थी। युवती काे गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां इलाज के दाैरान युवती की माैत हाे गई थी। जब उसके मृत्यु पूर्व कथन लिए तो युवती ने दुष्कर्म की घटना की जानकारी दी। युवती की मृत्यु के बाद पुलिस ने आरोपित आशीष पाठक पर दुष्कर्म सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज किया था। पुलिस ने आशीष काे गिरफ्तार कर लिया था। उसने जिला न्यायालय में जमानत आवेदन पेश किया। उसने तर्क दिया कि पीड़िता आशीष पाठक से एक तरफा प्यार करती थी। आवेदनकर्ता के घरवाले उस युवती से विवाह के लिए तैयार नहीं थे। जब उसे पता चला कि उसका विवाह होने वाला है ताे पीड़िता ने खुद से पेट्रोल डालकर आग लगा ली। जब उसने पहले बयान दिए, तब उसने दुष्कर्म की घटना का उल्लेख नहीं किया, लेकिन बाद में बयान बदले हैं। उसने दबाव में आकर गलत बयान दिए हैं। मिथ्या साक्ष्यों के आधार पर उसे फंसाया गया है। इसलिए जमानत पर रिहा किया जाए। कोर्ट जमानत की जो भी शर्तें लगाएगा, उसका पालन किया जाएगा। अभियोजन की ओर से जमानत आवेदन का विरोध किया गया। आरोपित की वजह से एक गंभीर घटना घटित हुई, इसलिए आरोपित ही जिम्मेदार है। यदि आरोपित को जमानत पर रिहा किया जाता है तो वह साक्ष्य व ट्रायल को प्रभावित कर सकता है। कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद आरोपित का जमानत आवेदन खारिज कर दिया।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close