Gwalior Court News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। हाई कोर्ट में 8 व 9 अप्रैल को वर्चुअल (वीडियो कान्फ्रेंस) सुनवाई की जाएगी। शहर में बढ़ रहे कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए लिया गया है। वकील भी वर्चुअल सुनवाई के लिए तैयार हैं। बुधवार को वर्चुअल व भौतिक सुनवाई की व्यवस्था रही और वकीलों ने वर्चुअल सुनवाई को प्राथमिकता दी। इस वजह से भौतिक सुनवाई में वकीलों की संख्या 30 फीसद कम रही। हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष एमपीएस रघुवंशी ने इसकी पहल की।

कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए अप्रैल 2020 में हाई कोर्ट में वर्चुअल सुनवाई की शुरुवात की गई थी। यह व्यवस्था करीब 9 महीने लागू रही। लंबे समय बाद हाई कोर्ट ने भौतिक सुनवाई की शुरुवात की थी। हाई ब्रिड काज लिस्ट बनाई जा रही थी। काज लिस्ट में व्यवस्था दी गई थी कि वकील चाहें तो भौतिक रूप से भी उपस्थित हो सकते हैं। वर्चुअल तरीके से भी पक्ष रख सकते हैं। वर्चुअल पक्ष रखने के लिए अग्रिम सहमित देनी होती है, लेकिन शहर में कोविड-19 का संक्रमण फिर से बढ रहा है। इसे देखते हुए वकील वर्चुअल सुनवाई को प्राथमिकता देने लगे। पिछले दो दिन से वर्चुअल व्यवस्था को प्राथमिकता दे रह थे। हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष व अतिरिक्त महाधिवक्ता एमपीएस रघुवंशी दो दिन से वीडियो कान्फ्रेंस से शासन का पक्ष रख रहे थे। रघुवंशी ने बार की ओर से वकीलों से भी अपील की। संक्रमण को देखते हुए वर्चुअल को प्राथमिकता दी जाए। स्थिति को देखते हुए हाई कोर्ट दो दिन वर्चुअल सुनवाई का फैसला लिया है।

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags