Gwalior Craft bazaar News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दीपावली की खरीदारी का दौर शुरू हो चुका है। रोशनी के त्योहार दीवाली में अब कुछ ही दिन शेष हैं। इंटेक द्वारा शनिवार को तीन दिवसीय हस्तशिल्प बाजार का शुभारंभ होटल सेंट्रल पार्क में किया गया। हस्तशिल्प बाजार में वर्ली आर्ट, मधुबनी पेंटिंग, चितेरा, गोंड, बाघ,चंदेरी, खादी आदि लोक प्रसिद्ध कलाओं से बनी वस्तुओं की खरीदारी करने शहरवासी पहुंचे। इन दिनों लोग हस्तकला वस्तुओं से घर सजाना ज्यादा पसंद कर रहे हैं, इसलिए हैंडमेड वस्तुओं की डिमांड लगातार बढ़ रही है। बाजार में बिहार की मंजूसा और मधुबनी, महाराष्ट्र की वर्ली, मध्यप्रदेश की गोंड, चितेरा और बाघ वाटिका, गुजरात का अजराग, चंदेरी का कपड़ा, खादी का कपड़ा, जयपुर के कुंदन एवं मेंनकरी की ज्वेलरी, चंपारण के हैंडलूम कॉटन कुर्ते व जैकेट्स, दीवाली डेकॉर, मिट्टी के दीये आदि वस्तुएं उपलब्ध कराई गई हैं।

कठपुतली से सजाएं घर

कठपुतली का खेल लोग अक्सर मेले में देखते थे। राजस्थान का प्रसिद्ध कठपुतली नृत्य आज भी पसंद किया जाता है, लेकिन अब लोग कठपुतली का उपयोग घर सजाने में करने लगे हैं। जिससे बाजार में कठपुतली की-रिंग भी उपलब्ध हैं।

जयपुर की कुंदन व मेंनकरी की ज्वेलरी आ रही पसंद

बाजार में जयपुर की कुंदन व मेंनकरी की ज्वेलरी खास पसंद की जा रही है। इस ज्वेलरी की खास बात यह कि इनका रंग कभी फीका नहीं पड़ता है। साथ ही इसे हर तरह की इंडियन और वेस्टर्न आउट फिट पर पहन सकते हैं।

मधुबनी और चितेरा आर्ट का लैंप: मधुबनी और चितेरा आर्ट के लैंप से आप अपने घर को रोशन कर सकते हैंं। इस लैंप पर बिहार की मधुबनी पेंटिंग और मध्यप्रदेश का चितेरा आर्ट दिखाया गया है। इसकी खासबात है कि इसका वजन बहुत कम है और एक कमरे को आसानी से रोशन कर सकता है।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local